VIDEO: स्मार्टफोन के जमाने में कम होने लगे लैंडलाइन टेलीफोन कनेक्शन

प्रतापगढ़. बीएसएनएल का लैंडलाइन फोन अब बीते जमाने की बात हो गई है। मोबाइल फोन और स्मार्ट फोन का क्रेज बढऩे के साथ ही अब लोग लैंड लाइन फोन को भूलने लगे हैं। स्थिति यह है कि जिले के प्रतापगढ़ और अरनोद में लगभग 1500 लैंड लाइन फोन ही बचे हैं। जिले के कई सरकारी दफ्तरों में भी लैंड लाइन फोन नहीं लगे हैं। पूर्व में जहां हर कार्यालयों में लैंडलाइन फोन हुआ करता था, वहीं शायद ही अब किसी कार्यालय में यह फोन बचा हो। हालांकि लैंडलाइन फोन पर भी ढेर सारे ऑफर दिए जा रहे हैं लेकिन इसके इस्तेमाल करने वालों की संख्या दिनों-दिन घट रही है।

पांच साल में कटे 500 से 1000 कनेक्शन
बीएसएनएल अधिकारियों के अनुसार प्रतापगढ़ व अरनोद में पिछले 5 सालों में 500 से 1000 कनेक्शन कटे है। पांच साल पहले 2500 से 3000 कनेक्शन थे, जहां अब 1500 से ही कनेक्शन रहे है। हालांकि लैंडलाइन फोन का बिल जहां पहले 150 रुपए आया करता था, वहीं अब 200 रुपए कर दिया गया है।

बीएसएनएल सिम की डिमांड भी हुई कम
सरकारी अधिकारियों के पास व अधिकांश लोगों को पहले बीएसएनएल सिम की डिमांड रहती थी। लेकिन नेटवर्क की कर्मी व नेट स्पीड़ की कमी के कारण लोगों को रूझान अन्य निजी नेटवक की सिमों में जाने लगा है।

अधिकांश समय बाधित रहती है बीएसएनएल की सेवाएं
जिले में अधिकांश समय नेटवर्क गायब रहता है। जिले में कभी सर्वर डाउन तो कभी कनेक्टिविटी नहीं होने से लोगों को परेशानी उठानी पड़ती है। जिले में लम्बे समय से बीएसएनएल की सेवाओं का यही हाल है। ऐसे में विभिन्न सेवाओं के आए दिन बाधित रहने से बीएसएनएल उपभोक्ता अन्य तरफ रुख करने लगे है।
..............................
किया जा रहा है पूरा प्रयास
निगम की ओर से सभी सेवाएं सुचारू रखने के प्रयास के साथ-साथ लोगों को बीएसएनएल की नई स्कीमों के बारे में भी लोगों को बताया जा रहा है।
मुकेश पाटीदार, सहायक महाप्रबंधक, भारत संचार निगम लिमिटेड, प्रतापगढ़