video नगरपालिका कर्मचारी खुद दे रहे जनता का फीडबेक

मेवाड़ किरण@नीमच -

नीमच. नगरपालिका कार्यालय में जो भी व्यक्ति जा रहा है उससे उसका मोबाइल नंबर मांगा जा रहा है। मोबाइल नंबर को स्वच्छता सर्वेक्षण 'एपÓ से नपा कर्मचारी जोड़ रहे हैं। 'एपÓ से जुडऩे के बाद एक कोड जनरेट होता है। इसे कर्मचारी को बताने पर उसकी मदद से फीटबेक दिया जा रहा है।
एप में भरे जा रहे हैं 10 प्रश्न के उत्तर
नगरपालिका की ओर से स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 में शहर को नंबर वन बनाने के कार्य में कर्मचारियों को लगाया गया है। कर्मचारी लोगों से उनके मोबाइल नंबर लेकर एप से जोड़ रहे हैं। एप पर 'सौ बटा सौÓ अभियान खोलने के बाद उसमें अंकित 10 प्रश्नों के उत्तर भी जनता की ओर से कर्मचारी ही दे रहे हैं। बड़ी संख्या में लोगों को प्रेरित कर उनके माध्यम से भी फीडबेक लिया जा रहा है। इस तरह 100 अंकों के इन प्रश्नों के उत्तर कर्मचारी देकर नगरपालिका को नंबर वन बनाने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे भी फीडबेक लिए जाने की जानकारी सामने आई है जिनमें निकाय के कर्मचारियों ही लोगों के नाम से फीडबेक लेकर स्वच्छता अभियान का स्कोर बढ़ा रहे हैं।
हां, नपा कर्मचारी दे रहे हैं फीडबेक
अभी 1969 नंबर शुरू नहीं हुआ है। इस कारण आम जनता स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 के तहत फीडबेक नहीं दे पा रही है। आगामी 8-10 दिन में नंबर शुरू हो जाएगा। अभी नपा कर्मचारी इस कार्य में लगे हैं, यही सही है। अपना शहर नंबर वन आए यह किसे अच्छा नहीं लगेगा। इसके लिए अन्य शहरों में तो अधिकारी कर्मचारी कई तरह के जतन कर रहे हैं।
- संजेश गुप्ता, मुख्य नगरपालिका अधिकारी

...................................................................
जहां अतिथि का सम्मान होता है व देवता का निवास होता है -स्वामी सत्यानंद महाराज

नीमच । परमात्मा भक्ति ज्ञान को जाने बिना संसारिक ज्ञान अधूरा है भगवान से प्रेम बिना अषांति दूर नहीं हो सकती है भक्ति मती मॉं मीराबाई की भक्ति का संसार में कोई सानि नहीं है फि ल्म अभिनेत्री की सुन्दरता बीस वर्षो तक रहती है लेकिन मीरा की भक्ति वर्शो से अमर है, इसलिये हम प्रभु भक्ति में ध्यान लगायें बेटी है तो कल है।जहॉं अभाव है वह भगवान का भाव धारण करना चाहिये । पृथ्वी का वातावरण प्रदूषित हो रहा है मानव का कद एवं उम्र घट रही है चिंतन का विशय है विवाह की आठ विधियॉं होती है विवाह सम्बंध बराबरी के गुणों में होना चाहिये । व्यर्थ विचारों को लायेगें तो सत्य संकल्प कैसे पूरा होगा इसलिये षुद्ध पवित्र विचार लायेगें तो मानव जीवन में कल्याण होगा भगवान की भक्ति को पहले सुनना पढ़ता है तभी प्रभु से प्रेम उत्पन्न होता है सुख-दुख दोनों साथ रहते है अंहकार को कम करें तो दीनता को भी दुर करना चाहिये । समाज में समानुपात हो जायेगा । पहले अतिथि को भगवान मानते थे लेकिन आज अतिथी के सम्मान में कमी रहती है जो चिंतन का विशय है यह बात स्वामी सत्यानंद महाराज ने कही वे गणेश मंदिर, शीतलामाता मंदिर प्रांगण ग्वालटोली, बरूखेड़ा मार्ग मॉं अन्नपूर्णा श्रमजीवी हलवाई संघ द्वारा गणेश मंदिर की स्थापना वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा में गुरूवार शनिवार को बोल रहे थे। उन्होंनें कहां कि भागवत कथा में राम-सीता विवाह का संगीतमय वर्णन प्रस्तुत करते हुए कहां कि कथा में श्रद्धालुओं ने भक्ति भाव के साथ कथा की ज्ञान गंगा में डुबकी लगाई । और राम-सीता विवाह में जमकर नृत्य का आनंद लिया इस दौरान श्रद्धालुओं ने जय-जय श्रीराम, जय-जय श्रीराम के जयकारे से भक्ति पांडाल भक्ति मय हो गया ।