ViDEO – चार दिन से लापता छात्र की हत्या कर कुएं में फेंका शव

मेवाड़ किरण@नीमच -

नीमच। मनासा थाना क्षेत्र स्थित बर्डिया गांव से चार दिन से लापता कक्षा दसवीं के छात्र के परिजनों ने सोमवार सुबह एसपी राकेश सगर को ज्ञापन दिया और मोबाइल पर 20 लाख की फिरोती मांगने की धमकी की बात बताई। जिसके बाद पुलिस हरकत में आई। इसी दौरान दोपहर को मनासा से एक किलोमीटर दूर पराना तराई गांव में सत्यनारायण के खेत पर बने कुए में एक युवक का हाथ-पैर बंधा शव मिलने पर सनसनी फैल गई। लापता युवक के परिजनों ने उसकी शिनाख्त अपने बेटे दिनेश मालवीय के रूप में की। जिसके बाद परिजनों का आक्रोश पुलिस पर फूट पड़ा और उन्होंने मनासा अस्पताल के बाहर जाम लगाकर विरोध किया। वहीं हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की। एसडीओपी आरके भाकर की समझाइश के बाद एक घंटे बाद शाम करीब पांच बजे पीएम हुआ।

 

थाना प्रभारी दशरथ सिंह ने बताया कि चित्तोडग़ढ़ के आसोड़ा गांव निवासी दिनेश पिता नाथूलाल मालवीय उम्र 16 वर्ष करीब चार साल से अपनी बहन ज्योति पति दिपक मालवीय के साथ बर्डिया मनासा गांव में रहकर यही पढ़ाई कर रहा था। वह 7 फरवरी की शाम करीब साढे पांच बजे बहन से दोस्त से नोटस लाने की कहकर निकला था। उसके बाद से उसका कुछ पता नहीं चला। वहीं शाम साढे सात बजे करीब उसके नंबर से बहन के नंबर पर फोन आया कि अगर दिनेश को जिंदा चाहते हो तो 20 लाख रुपए दे देना। उसके बाद परिजनों ने पुलिस थाने को मामले की सूचना दी। वहीं आठ फरवरी को एसडीओपी आरसी भाकर को ज्ञापन भी मामले से संबंधित दिया। पुलिस की जानकारी के अनुसार जूनासात गांव की लोकेशन आई थी। उसके बाद से फोन बंद होने के बाद पुलिस मामले में आगे नहीं बढ़ पाई। जिसको लेकर सोमवार ११ फरवरी को एसपी राकेश सगर को लापता छात्र के परिजनो ंने सुबह ज्ञापन दिया था। एसपी ने परिजनों ने अकेले में पूरे मामले के बारे में चर्चा भी की थी। उसके बाद एक सायबर टीम भी मामले की जांच में गठित की थी। वहीं पालना तराई गांव के सत्यनारायण के खेत में बने एक कुएं में शव मिलने की सूचना खेत के मजदूर बद्रीलाल राठौर ने डायल 100 पर दोपहर एक बजे दी थी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोपहर डेढ़ बजे शव को निकालने का प्रयास किया था। वहीं मौके पर लापता छात्र दिनेश के परिजनों को बुलाकर शव की शिनाख्त कराई। परिजनों ने उसकी शिनाख्त दिनेश मालवीय के रूप में की। शव के रस्सी से हाथ और पैर बंधे थे। जिससे मामला पूरी तरह हत्या का है। पुलिस ने प्राथमिक रूप से मामला हत्या में दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम देर शाम साढे छह बजे कराकर परिजनों को सौंप दिया है। परिजनों हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर शव का पीएम करीब दो घंटे तक नहीं करने दिया और सड़क पर बैठकर रास्ता जाम कर दिया था। मौके पर एसडीओपी आरसी भाकर ने उनकी समझाइश कर मामले को शांत किया।

 

प्रेम प्रसंग की बात आई सामने
परिजनों से प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक छात्र का किसी किशोरी से प्रेम संबंध था। वह शाम साढे पांच बजे करीब दोस्त सचिन को गलफ्रेंड को प्रपोज करने के लिए गुलाब का फूल देने की बात कहकर निकला था। वहीं शाम सात बजे करी उसने उसे दोस्त पवन, प्रखर, अविनाश के साथ सिगरेट भी पीने की बात सामने आई है। उसके बाद से वह वहां से रामपुरा नाके की तरफ निकला था। उसके बाद से लापता है। पुलिस की कॉल डिटेल में एक किशोरी से करीब 126 बार बात होना भी सामने आया है। जिसकी पुलिस गहनता से जांच कर रही है। मृतक छात्र के पिता नाथूलाल किसान है और मां रूपी बाई ग्रामीण हाऊस वाइफ है। परिवार भी मध्यम गरीब वर्ग का है। जिससे मामला अपहरण और फिरौती जैसा बिल्कुल नहीं लग रहा है। परिजनों को संदेह है कि छात्रा के परिजनों ने हत्या की है। पुलिस गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ करे। मृतक पांच भाई और तीन बहनों में सबसे छोटा और लाडला था।

 

हत्या में प्रकरण दर्ज

मनासा के बर्डिया गांव के कुछ लोग दिनेश मालवीय के लापता होने पर २० लाख की फिरोती की मोबाइल पर धमकी की बात की शिकायत लेकर आए थे। तुरंत सायबर टीम भी मामले में गठित कर जांच की जा रही थी। तभी उसका शव एक खेत के कुएं में मिला। जिसके हाथ और पैर बंधे थे, हत्या में प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। वहीं उसका सात फरवरी को ही शाम को मोबाइल भी यूज हुआ। संभवत: उसी दिन उसे मारकर उसके मोबाइल को यूज किया गया है। हत्या में प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। फिरोती जैसा मामला नहीं लग रहा है। प्रेम प्रसंग की बात पर जांच चल रही है।
- राकेश कुमार सगर, एसपी नीमच।