VIDEO:एक साल में सुधार देंगे छात्रावासों की व्यवस्थाएं

राजकीय महाविद्यालय बालक छात्रावास में मिली कई अनियमितताएं
प्रतापगढ़. जयपुर से बांसवाड़ा जाते हुए शुक्रवार को जनजाति क्षेत्रिय विकास मंत्री अर्जुन बामनिया ने यहां छाावासों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अनियमितता पर वार्डन को लताड़ लगाई। वहीं एकलव्य मॉडल बालिका छात्रावास की व्यवस्थाओं से खुश हुए और गणतंत्र दिवस पर सम्मानित करने की सिफारिश की।
जयपुर से बांसवाड़ा जाते समय वे सर्किट हाउस पहुंचे। जहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं की ओर से उनका स्वागत किया गया। इसके बाद विधायक रामलाल मीणा के साथ मंत्री बामनिया राजकीय महाविद्यालय के बालक छात्रावास पहुंचे।
जहां के हालात देख अधिकारियों को कहा कि एक साल में जिले के सारे हॉस्टल के हालात सही कर दूंगा।
खुले में नहाने को मजबूर छात्र
एनएच 113 पर सर्किट हाउस के सामने बने राजकीय बालक विद्यालय छात्रावास में मंत्री ने निरीक्षण किया। जहां सामने आया कि छात्रों को मूलभूत सुविधाओं के लिए भी तरसना पड़ रहा। निरीक्षण में मंत्री ने देखा कि नहाने के लिए बाथरूम तो बने हुए है, लेकिन उन पर ताले लगे हुए है। जिसके कारण छात्रों को ठंड के मौसम में भी खुले में नहाना पड़ रहा है। वहीं सुविधाघरों के हालात भी गंदे मिले, जहां समय पर सफाई नहीं हो पा रही है। छात्रों के रूम में पंखे तक नहीं लगे हुए। जिसे देख मंत्री ने अधिकारियों को सभी समस्याओं के निराकरण के आदेश दिए।
एकलव्य मॉडल बालिका छात्रावास को सराहा
शहर के बांसवाड़ा रोड स्थित सैंट पॉल स्कूल के पास बने एकलव्य मॉडल बालिका छात्रावास का निरीक्षण किया। जहां निरीक्षण के दौरान छात्रावास की साफ-सफाई देख व व्यवस्था देखने के बाद छात्रावास की बालिकाओं से बातचीत की। यहां विभिन्न सुविधाओं को देखकर सराहना की। मंत्री ने अधिकारियों को कहा कि हॉस्टल वार्डन सुगना मीणा को 26 जनवरी पर सम्मानित किया जाए।
पूर्व मंत्री के गृह क्षेत्र के छात्रावासों की यह हालात
जिले में छात्रावासों के निरीक्षण के दौरान मंत्री बामनिया ने पूर्व जनजाती क्षेत्रीय विकास विभाग मंत्री नंदलाल मीणा को घेरा। उन्होंने कहा कि पूर्व मंत्री का गृह क्षेत्र व खुद का विभाग होने के बाद भी छात्रावासों के हालात खराब है। ऐसे में गांवों के छात्रावासों के क्या हालात होंगे? निरीक्षण के दौरान कई अधिकारी और जनप्रतिनिधि साथ थे।
बालिकाओं ने की कोचिंग की मांग
छात्रावास में निरीक्षण के दौरान बालिकाओं ने 12वीं के बाद प्रतियोगी परीक्षा के लिए कोचिंग की मांग की। इस पर मं9ी बामनिया ने कहा कि यहां पर 12वीं के बाद कोचिंग की व्यवस्था कराईजाएगी। वहीं आगामी दिनों में उदयपुर में नि:शुल्क कोचिंग कराई जाएगी।