क्या इस बार मावली को कांग्रेस-बीजेपी दिला पायेगी समुचित नेतृत्व ?

मावली : आजादी के बाद से ही उदयपुर जिले की मावली विधानसभा का राजस्थान की राजनीति में अहम स्थान रहा है। मावली के पहले विधायक जर्नादन राय नागर से लेकर निरजंन नाथ आचार्य हनुमान प्रसाद प्रभाकर और शांतिलाल चपलोत जैसे दिग्गजों ने मावली का विधायक के रूप में प्रतिनिधित्व किया है।

वैसे तो मावली विधानसभा का कई दिग्गजों ने विधायक के रूप में प्रतिनिधित्व किया है, लेकिन विगत कुछ वर्षों से मावली का जनमानस ऐसा महसूस कर रहा है कि उनके क्षेत्र को समुचित नेतृत्व नहीं मिल पा रहा है।

मावली विधानसभा क्षेत्र संख्या 154 उदयपुर जिले की सामान्य सीट है। 2011 की जनगणना के अनुसार मावली विधानसभा की जनसंख्या 3,20,997 है। जिसका 86।89 फीसदी हिस्सा ग्रामीण व 13।11 फीसदी हिस्सा शहरी है। जबकि कुल आबादी का 23।11 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति और 10।23 प्रतिशत अनुसूचित जाति है। आदिवासी आबादी के बाद इस सीट पर पाटीदार और ब्राह्मण समाज का भी अच्छा खासा दखल है।

2017 की वोटर लिस्ट के अनुसार मावली विधानसभा में मतदाताओं की संख्या 2,28,377 है और 259 पोलिंग बूथ है। साल 2013 की विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 77।42 फीसदी मतदान हुआ था। जबकि 2014 लोकसभा चुनाव में 64।45 फीसदी मतदान हुआ था।

2013 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में मावली विधानसभा से बीजेपी के दली चंद डांगी ने कांग्रेस विधायक पुष्कर लाल डांगी को 23465 मतों से पराजित किया। बीजेपी के दली चंद डांगी को 84558 वोट और कांग्रस के पुष्कर लाल डांगी को 61093 वोट मिले थे। बता दें कि पुष्कर लाल डांगी पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के खास हैं। और इस बार भी डांगी की दावेदारी प्रबल मानी जा रही है।

2008 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में मावली विधानसभा सीट पर कांग्रेस के पुष्कर लाल डांगी ने बीजेपी के ब्राह्मण चेहरा धर्मनारायण जोशी को 4733 मतों से पराजित किया। कांग्रेस के पुष्कर लाल डांगी को 58289 वोट जबकि बीजेपी के धर्मनारायण जोशी को 53556 वोट मिले थे।

यह भी पढ़ें –

बड़ीसादड़ी – स्पेशल रिपोर्ट – बड़ीसादड़ी विधानसभा सीट की सियासत पर एक नजर
बेगूं – नेता की वजह से हारी कांग्रेस, क्या इस बार बेगूं पर कर पाएगी कब्जा?
निम्बाहेड़ा – चित्तौड़ की हॉट सीट निम्बाहेड़ा से लड़ेंगे कृपलानी या फिर बदलेंगे सीट?
चित्तौड़ – चित्तौड़ में अब तक 14 चुनाव, मतदाताओं ने लगातार दूसरी बार किसी के सिर नहीं बांधा जीत का सेहरा
कपासन क्या बीजेपी कपासन में दोहरा सकेगी 2013 विधानसभा चुनाव का प्रदर्शन?