हजारों किसानों ने एकजुट होकर चित्ताैड़गढ़ कलेक्ट्रेट के बाहर अफीम पट्टे बहाली की मांग पर दिया धरना…

भारतीय किसान संघ के बेनर तले सोमवार को उदयपुर, भीलवाडा, चित्तौडगढ, प्रतापगढ़ जिले से हजारों अफीम किसान अपने पट्टे, बहाली की मांग को लेकर चित्तौडगढ़ कलेक्ट्रेट पहुंचे और दिनभर धरना प्रदर्शन किया। उसके बाद चित्तौडगढ़ कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह को प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री और केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री के नाम ज्ञापन ज्ञापन सौंपा। धरने में किसान संघ के साथ अफीम संघर्ष समिति, अफीम विकास समिति, किसान विकास समिति ने भी सामूहिकता से एकजुट होकर साथ दिया।

पहली बार अफीम किसानों एक जुटता दिखाई और शक्ति प्रदर्शन किया। ज्ञापन में किसानों बताया कि सरकार प्रतिवर्ष औसत के आधार पर किसानो को पट्टा जारी करती आयी है लेकिन पहली बार किसानों को बिना जानकारी दिए मार्फिन पर नई नीति घोषित कर दी। जिससे निर्दोष, ईमानदार हजारों किसानों के पट्टे रुके जो किसानों के साथ सरासर भारी अन्याय है। कहीं ना कहीं नीति मे भारी चूक हुई है जिसे पुनः संशोधन की मांग किसानों ने की हैं।

भारतीय किसान संघ चितौड़ प्रांत युवा प्रमुख सोहनलाल आंजना ने बताया कि अफीम किसानों की मांग को लेकर चित्तौडगढ कलेक्ट्रेट के बाहर धरना सुबह 11ः30 बजे से ही हुआ जो 3ः30 बजे तक चलता रहा। धरने को भारतीय किसान संघ के चित्तौड़ प्रांत उपाध्यक्ष बद्रीलाल जाट (भीलवाडा) चित्तौडगढ जिला अध्यक्ष रतनसिंह गंठेड़ी, उपाध्यक्ष नानालाल धाकड़, प्रतापगढ़ जिला उपाध्यक्ष पन्नालाल डांगी, अफीम विकास समिति संरक्षक मांगीलाल मेघवाल (बीलोट), अफिम किसान संघर्ष समिति चित्तौडगढ़-भीलवाड़ा संयोजक मदनलाल जाट, किसान विकास समिति प्रतापगढ़ जिलाध्यक्ष सुरेशचन्द्र गुजराती, किसान संघ छोटीसादड़ी तहसील अध्यक्ष ताराचंद पाटीदार बेगूं अध्यक्ष गोपीलाल धाकड़, भीलवाडा संयोजक बद्रीलाल तेली, प्रतापगढ़ तहसील अध्यक्ष नंदलाल गुर्जर, राशमी तहसील अध्यक्ष रमेशचन्द्र सुखवाल रूद, कवि भैरूलाल धाकड़, बांगेडाघाटा किसान संघ जिला मंत्री बरदीशंकर पारीक ने सं‍बोधित किया।