नाथद्वारा प्रशासन सुस्त – यातायात व्यवस्था पर कही कोई नज़र नही

नाथद्वारा – नगर में श्रीनाथजी के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं को व्यवस्था के नाम की दुहाई देते हुए उनके वाहनों को बस स्टैण्ड एवं अन्य दूर के स्थानों पर ही पार्किंग कराए जाने और हाईकोर्ट के नो व्हीकल जोन बनाने वाले क्षेत्र में ही यातायात की बदहाली का नजारा श्रद्धालुओं के मन को कचोटने लगा है। सभी आदेश-निर्देश व्यवस्थाएं सुधारने के थे, लेकिन उनकी पालना के बावजूद प्रशासन व पालिका की अदूरदर्शिता से हालात सुधरने के बजाए और बिगड़ गए।

शहर में जब कुछ समय पूर्व ऑटो का संचालन माणक चौक से होता था वहां पर वर्तमान में कई दुपहिया वाहन बेतरतीब एवं अस्त-व्यस्त खड़े रहते हैं, जिससे वहां से पैदल गुजरने वालों को ही परेशानी का सामना करना पड़ता है। जबकि, कुछ समय पूर्व जहां अभी दुपहिया वाहन खड़े हैं, वहीं से शहर की अधिकांश जनता को राहत के लिए ऑटो का संचालन होता था। यहां से ऑटो संचालन प्रशासन ने बिना जनता की सहमति के हटा दिया। इसके बाद से ही यहां ऑटो खड़े रहते थे, उससे भी ज्यादा बदहाल स्थिति होती जा रही है। कई लोग इस मार्ग से जब गुजरते हैं तो उनको कभी दुपहिया वाहन से बचना पड़ता है तो कभी मवेशियों से। वहीं, दुपहिया वाहन आमने-सामने होकर यहां से निकलने में काफी असुविधा महसूस करते हैं।

श्रीजी मार्केट भी होने लगा संकड़ा
शहर के बस स्टैण्ड से सिंधी कॉलोनी आदि से होकर जो ऑटो माणक चौक तक पहुंचते हैं, उससे ठीक पहले श्रीजी मार्केट है, जहां से ऑटो का गुजरना बंद होने के बाद यह स्थिति है कि दुकानों के बाहर दुपहिया वाहन खड़े हैं एवं जो दुकानें बंद रहती है वहां पर तो दिनभर मोटर साईकिल या स्कूटर आदि खड़े रहते हैं। इससे यहां पर भी दुपहिया वाहन और पैदल राहगीरों को निकलने में दिनभर परेशानी का सामना करना पड़ता है।

जनता भी समस्या में
माणक चौक से प्रशासन के द्वारा ऑटो स्टैण्ड को का हटाने के पीछे व्यवस्थाओं की दुहाई दी जाती रही है। जबकि, ऑटो को हटाने के बाद से ही शहर की लगभग 50 प्रतिशत जनता को प्रशासन के इस निर्णय से परेशान होना पड़ रहा है। इसमें सबसे ज्यादा परेशानी शहर के वल्लभपुरा, गुर्जरपुरा, गणेशनगर, लंबी गली, जाट खिडक़ी, मोहनगढ़ सहित अन्य स्थानों पर रहने वाले लोगों को हो रही है, जिनको बस स्टैण्ड जाना पड़ता है। इसी तरह यदि ये लोग बाहर कहीं पर यात्रा करने के लिए जाते हैं तो उनके पास लगेज आदि होता है, जिसको हाथ में लेकर पैदल चलकर अब रिसाला चौक जाकर बस स्टैण्ड आदि के लिए जाता है, जिसे मात्र पौन किलोमीटर की दूरी पर बस स्टैण्ड होने के बावजूद १० रुपए किराया चुकाना पड़ता है। ऐसे में आम जनता की यह मांग अभी भी है कि प्रशासन को माणक चौक से ऑटो संचालन अखर रहा था, तो अब इस मार्ग पर बेतरतीब खड़े दुपहिया वाहन एवं अन्य बदहाली को व्यवस्थित करने में किसका इंतजार किया जा रहा है। जबकि, जनता को परेशानी से राहत दिलाने के निर्णय के बाद यहां कुछ भी नहीं हो पाया है। उल्लेखनीय है कि माणक चौक से ऑटो का संचालन बंद करने व उसके बाद हाईकोर्ट के द्वारा हाल ही में मंदिर मार्ग तक के मुख्य मार्गांे को नो व्हीकल जोन करने आदि के आदेश के बावजूद माणक चौक, जो कि सबसे व्यस्ततम स्थल है, जहां से अधिकांश लोगों की आवाजाही रहती है।

करेंगे समाधान
नाथद्वारा शहर में यातायात की समस्या को लेकर जल्द ही समाधान किया जाएगा।
कानसिंह भाटी, पुलिस उपाधीक्षक नाथद्वारा

व्हाट्सएप्प (WhatsApp) पर शेयर करें