एशिया की दूसरी सबसे बड़ी मानव निर्मित झील अब बनेगी हनीमून डेस्टिनेशन ….

उदयपुर- शहर से लगभग 50 किलोमीटर दूर एशिया की दूसरी सबसे बड़ी मानवनिर्मित झील जयसमंद अब हनीमून डेस्टिनेशन व मैरिज-बर्थडे पार्टी डेस्टिनेशन के रूप में भी जानी जाएगी। यहां शुरू होने वाले वाटर स्पोर्ट्स के तहत हाउस बोट, कैटामरीन बोट भी शुरू की जाएंगी। इन बोट में टूरिस्ट्स झील के बीच में रहकर न सिर्फ नाइट स्टे कर सकेंगे, बल्कि उगते व ढलते हुए सूरज की खूबसूरती को भी निहार सकेंगे। टूरिस्ट्स प्रकृति के बीच सुकून का अनुभव कर सकेंगे। ऐसी है इस झील की खासियतें…

– जयसमंद एशिया की दूसरी सबसे बड़ी मानवनिर्मित झील है। इसे ढेबर झील के नाम से भी जाना जाता है। गोमती नदी पर 1711 से 1730 के मध्य रियासत काल के महाराणा जयसिंह ने इसका निर्माण करवाया था।

– इसमें नौ नदियों और 99 नाले गिरते हैं, जिससे यह भरता है। इसकी गहराई 27.5 फीट है। 1973 में यह पहली बार ओवरफ्लो हुई थी। पिछले दस महीने में यहां 2 लाख 31 हजार टूरिस्ट्स आ चुके हैं।

– इसकी पाल पर बने हाथी विशेष खासियत रखते हैं। पाल पर बने आखिरी हाथी के पैरों में बंधी जंजीरों तक पानी आ जाता है तो झील ओवर फ्लो हो जाती है। झील ओवरफ्लो होने की यह पहचान है। जयसमंद का ओवरफ्लो पाल से करीब 8 किमी दूर नामला नामक स्थान पर है।

तीन हाउस बोट में ठहरने के लिए होंगे दस कमरे
यश एम्यूजमेंट के इरशाद चौधरी ने बताया कि वाटर स्पोर्ट्स के तहत तीन हाउस बोट जयसमंद में चलाई जाएंगी। इसमें एक हाउस में पांच कमरे, एक में चार कमरे और एक सिंगल रूम हनीमून स्वीट हाउस बोट होगी। इन बोट में रहकर टूरिस्ट्स झील को देख सकेंगे। चलती हुई बोट में डे-नाइट स्टे कर टूरिस्ट्स खूबसूरत रोमांच महसूस कर सकेंगे।

राजस्थान में ऐसी सुविधा फिलहाल कहीं नहीं
– फिलहाल राजस्थान में ऐसी बोटिंग की सुविधा कहीं भी नहीं है। कैटामरीन बोट में एयरकंडीशन रेस्टोरेंट होगा। यह रेस्टोरेंट झील में चलेगा। यहां आने वाले टूरिस्ट्स शाही अंदाज में रेस्टोरेंट के अंदर से झील की खूबसूरती को निहार सकेंगे और यहां लंच-डिनर भी ले सकेंगे। यहां तक कि झील के बीच कैटामरीन बोट में टूरिस्ट्स या शहरवासी बर्थडे पार्टी, मैरिज पार्टी तक आयोजित कर सकेंगे।
– टूरिज्म डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने बताया कि आरटीडीसी ने वाटर स्पोर्ट्स के तहत यश एम्यूजमेंट कंपनी को ठेका दिया है। इनकी जयसमंद झील पर जेटी तैयार हो गई है। अगले महीने इसकी शुरुआत करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

– जयसमंद झील में वाटर स्पोर्ट्स के तहत स्पीड बोट, स्कूटर बोट तो रहेंगी ही, साथ ही हाउस बोट और कैटामरीन बोट भी चलेंगी। उम्मीद जताई जा रही है कि इस तरह की कैटामरीन बोट और हाउस बोट राजस्थान में पहली बार चलाई जाएगी। अभी तक इस प्रकार की बोट केरल, कश्मीर सहित देश के कुछ ही राज्यों में चल रही हैं।