हाइवे ही अंधेरे, आए दिन हो रहे हादसे…उदयपुर-डबोक और बलीचा हाइवे पर लाइटें बंद

चंदन सिंह देवड़ा/उदयपुर. डबोक एयरपोर्ट और प्रतापनगर-बलीचा मार्ग पर रोड लाइटें बंद होने से रोजना रात के समय हादसे हो रहे हैं। दोनों हाइवे किनारे आवासीय बस्तियों का विस्तार होने से राहगीरों को भी भारी परेशानी हो रही है। दोनों मार्गो की रोड लाइट के रखरखाव का जिम्मा नगर विकास प्रन्यास के जिम्मे है, लेकिन इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अंधेरे में हाइवे पर गड्ढे, मवेशी भी नजर नहीं आते हैं, जिससे दुपहिया से लेकर चार पहिया वाहन चालकों को खासी परेशानी हो रही है।

डेढ़ माह से एयरपोर्ट रो अंधेरे में

एयरपोर्ट मार्ग पर देबारी-पिण्डवाड़ा चौराहे से जिंक तक करीब डेढ़ किलोमीटर क्षेत्र में दो महीने से रोड लाइटें बंद है। अंधेरे के चलते चौराहे और उसके आगे दो क्रॉस पर हादसे हो रहे हंै। पिछले दो माह में 6 दुर्घटनाएं अंधेरे में मवेशी के अचानक सामने आ जाने या फिर हाइवे पर पत्थर या गड्ढे की वजह से हो चुकी है। नगर विकास प्रन्यास इसकी देखरेख करता है।

गुजरते हैं वीआईपी
हाइवे पर वीआईपी व अधिकारियों का भी आना-जाना लगा रहता है बावजूद इसके समस्या की अनदेखी की जा रही है, जो क्षेत्र में रहने वाले लोगों पर भारी पड़ रही है।

अंडरपास निर्माण के चलते हाइवे पार करना भारी

सेक्टर-9 से गिरिजा व्यास पेट्रोल पम्प के यहां प्रतापनगर-बलीचा बाइपास पर अंडरपास निर्माण का काम चल रहा है। नगर विकास प्रन्यास इस मार्ग को चौड़ा कर रहा है। साथ ही हाइवे लाइटें भी लगा दी गई है, लेकिन इन्हें चालू नहीं किया गया है। जिससे सेक्टर-9 से आरकेपुरम्, गोकुल विलेज, पिकॉक हिल में रहने वाले लोगों को अंधेरे में हाइवे पार करना भारी पड़ रहा है। बड़े वाहनों की तेज हैडलाइट से नजर नहीं आता है। पिछले दो माह में कई हादसे हो चुके हैं। इनमें एक महिला की मौत भी हो चुकी है।

जानकारी नहीं है
देबारी-डबोक एयरपोर्ट और प्रतापनगर-बलीचा हाइवे पर रोड लाइट बंद होने की जानकारी नहीं है। कल ही इसे दिखवा कर सुचारु करवाते है।

महेश हाड़ा
अधिशासी अभियंता(विद्युत), नगर विकास प्रन्यास