हत्या का फर्दाफाश न होने पर समाज चुनाव में भाजपा के खिलाफ करेगा मतदान जाट समाज

भीलवाड़ा। आसीन्द तहसील के रूपपुरा ग्राम के महावीर जाट की हत्या के मामले का सात माह बाद भी खुलासा नहीं सका है। इससे जाट समाज में रोष व्याप्त है। इस घटना को लेकर गौरव यात्रा के दौरान संस्थान की ओर से मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया जाएगा। ज्ञापन के 15 दिन में किसी तरह का निर्णय नहीं होता तथा इस मामले में दोषी व्यक्ति की गिरफ्तारी नहीं होती है तो जाट समाज अन्य समाज के लोगों के साथ विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करेगा।

 

जरूरत पड़ी तो भाजपा के खिलाफ मतदान किया जाएगा। इसकी घोषणा मंगलवार को राजस्थान मेवाड़ जाट महासभा संस्थान के प्रदेश अध्यक्ष शंकरलाल कुड़ी ने सूचना केन्द्र के पीछे स्थित एक होटल में आयोजित संवाददाताओं से बातचीत में की।

 

कुड़ी ने कहा कि महावीर जाट की 20 फरवरी 2018 को किसी ने हत्या कर दी थी। इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए जाट समाज ने आसीन्द थाने के बाहर 3 अप्रेल को धरना देकर प्रदर्शन किया। पुलिस ने जांच में तेजी लाने का आश्वासन दिया तो धरना समाप्त कर दिया गया। इस मामले 15 दिन बाद भी कुछ नहीं किया गया। उससे नाराज समाज के लोगों ने 28 मई को कलक्ट्रेट के बाहर भूख हड़ताल की गई।

 

मामला मुख्यमंत्री तक पहुंचा तो इसकी जांच सीआईडी सीबी को सौंप दी गई। इस आश्वासन पर भूख हड़ताल को समाप्त किया। मुख्यमंत्री के भीलवाड़ा सांसद सुभाष बहेडिय़ा के आवास पर बैठक में आने पर ज्ञापन दिया गया था। उसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं किए जाने से अब समाज के हर तबके के लोगों मे सरकार के प्रति रोष व्याप्त है।