सहाड़ा व भीलवाड़ा के लिए हुई मशक्कत

भीलवाड़ा।

भाजपा की ओर से घोषित पहली सूची में कई समीकरण बदले। भाजपा में पहले चुनावों के एेनवक्त पर दामोदर अग्रवाल को जिलाध्यक्ष पद से हटाया। अग्रवाल ने भीलवाड़ा से टिकट मांगा, लेकिन नहीं दिया गया। हालांकि अग्रवाल ने पत्रिका से बातचीत में बताया कि पार्टी का निर्णय सिरमाथे है। जो भी किया सोच-समझकर किया होगा। टिकट मिला उन्हें जीताएंगे।


गौरतलब है कि कुछ समय से विधायक विट्ठल शंंकर अवस्थी व पूर्व जिलाध्यक्ष अग्रवाल के बीच अनबन की खबरें छन-छनकर आ रही थी। टिकट के लिए रायशुमारी में भी अग्रवाल ने दावेदारी जताई थी। टिकट नहीं मिलने से उनके समर्थकों में निराशा है।

 

'एक दिन पहले कटा नाम'

सहाड़ा से विधायक डॉ. बालूराम चौधरी का टिकट कटा है। क्षेत्र में चर्चा है कि दोनों भाई पूर्व मंत्री डॉ. रतनलाल जाट व विधायक डॉ. चौधरी के बीच खींचतान के कारण चेहरा बदला गया है। कुछ लोग विधायक के निजी सहायक का ऑडियो वायरल होने को भी कारण मान रहे हैं। इस मामले में विधायक डॉ. चौधरी ने पत्रिका से बातचीत में बताया कि वे पार्टी के साथ हैं। कोई भी हो, सब जनता के लिए काम करेंगे। भाजपा प्रत्याशी रूपलाल जाट की पूरी मदद करेंगे। बकोल डॉ. चौधरी, मेरे से पहले भी जाट थे और अब भी जाट है। मेरा नाम एक दिन पहले तक था बाद में अचानक कटा। नाम क्यों कटा, यह सब दिल्ली पर फोकस करता है।


कहीं नहीं मनमुटाव-भाजपा जिलाध्यक्ष
सात में से चार विधानसभा क्षेत्रों से भाजपा प्रत्याशी तय होने के साथ ही भीलवाड़ा, मांडल, सहाड़ा व शाहपुरा में कार्यकर्ता और वरिष्ठ नेता प्रत्याशियों के समर्थन में उतर गए हैं, वहीं कुछ जगह विरोध की सुगबुगाहट भी शुरू हो गई है। मांडल में भाजपा प्रत्याशी कालूलाल गुर्जर के सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल करने के साथ यहां रूठों की मनाने की मशक्कत भी शुरू कर हो गई है। दूसरी तरफ शाहपुरा में भी अंसतुष्टों को भी मनाने के लिए संगठन के रणनीतिकार मंथन करने लगे हैं। इन सबके बीच भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण डाड ने कहा कि पार्टी में सब एकजुट हैं। कोई रूठा है तो उसे मना लेंगे और मिलजुल कर टीम वर्क के साथ चुनाव लड़ेंगे। डाड ने आर के कॉलोनी स्थित जिला भाजपा कार्यालय में संगठनात्मक गतिवधियों को लेकर वरिष्ठजनों से विचार-विमर्श किया।