सर्राफा कारोबारी ने अदालत के बाहर खाया विषाक्त, मचा हड़कंप

भीलवाड़ा।

स्थानीय न्यायालय परिसर में सोमवार दोपहर शाहपुरा के सर्राफा कारोबारी ने विषाक्त पदार्थ खा लिया। विषाक्त पदार्थ खाने से पहले उसने न्यायाधीश को पत्र सौंपकर शाहपुरा थानेदार समेत 15 जनों पर परेशान करने का आरोप लगाया। हालत बिगडऩे पर महात्मा गांधी अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई (आइसीयू) में भर्ती कराया गया। कोतवाली थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है।


उपनिरीक्षक रामरतन चौधरी ने बताया कि शाहपुरा निवासी राजेशकुमार सोनी (52) दोपहर में न्यायालय पहुंचा। वह विशिष्ट न्यायालय (महिला उत्पीडऩ) में गया और न्यायाधीश को पत्र सौंपकर बाहर आ गया। बाहर आकर उसने एक शीशी में रखा विषाक्त पदार्थ खा लिया। इससे वह अचेत होकर गिर गया। घटना से वहां मौजूद लोगों में हड़कम्प मच गया। चालानी गार्ड दौड़कर आए। उसे तत्काल अस्पताल ले जाया गया। वहां राजेश को आइसीयू में भर्ती कर लिया गया।

पत्र में लिखा, परेशान कर रहे, बेटे को बचाओ
राजेश ने पत्र में लिखा कि उसे शाहपुरा थानाप्रभारी, विद्याधर नगर (जयपुर) निवासी जगदीश सोनी समेत १५ जने परेशान कर रहे हैं। इन लोगों ने उसका जीना दुश्वार कर रखा है। उसे और परिवार के लोगों को जान से मारने की धमकी दे रखी है। पत्र में कहा गया कि उसने ११ अप्रेल को जयपुर में पांचबत्ती रोड स्थित विकास ज्वैलर्स से 18 लाख का सोना खरीदा था। इसके बदले राजेश ने फर्म का चेक दिया। चेक सिकरने की तारीख 13 अप्रेल थी।

 

राशि का बंदोबस्त नहीं होने से राजेश जयपुर गया और जगदीश सोनी से मिलकर चेक बैंक में नहीं लगाने को कहा। जगदीश ने एेसा करने से इनकार कर दिया। इस पर जयपुर से राजेश के साथ दो व्यक्ति शाहपुरा आए। राजेश ने उनको ३२५ ग्राम सोना दे दिया। शेष भुगतान एक दिन बाद करने के लिए कहा। राजेश ने आरोप लगाया कि दोनों व्यक्ति शाहपुरा पुलिस को साथ लेकर घर पहुंच गए। वहां परिवार को धमकाया। पुत्र मनोज को उठा ले गए और मारपीट कर रहे हैं। उसने जज से आरोपियों को सजा दिलाने की मांग की।