सरकारी दुकान पर हो रहा था नकली शराब कारोबार, इस तरह हुआ भण्डाफोड़, एक गिरफ्तार

बांसवाड़ा.
जिले के कुशलगढ़ में आबकारी विभाग से अधिकृत शराब की सरकारी दुकान पर उपखंड अधिकारी की दबिश मे मिलावटी एवं नकली शराब के कारोबार का भंडाफोड़ हुआ है। इसके बाद आबकारी विभाग के अधिकारियों को बुलाकर कार्रवाई करवाई। दुकान को सील कर दिया गया और एक सैल्समैन को गिरफ्तार किया गया है।

एसडीएम सुमन ने बताया कि कुशलगढ़ में शराब की दुकान पर निर्धारित दर से अधिक कीमत पर शराब बिक्री की एक शिकायत प्राप्त हुई थी, जिसे उन्होंने बांसवाड़ा आबकारी विभाग कार्यालय को भेज दिया था, लेकिन मंगलवार को शिकायतकर्ता मौके से वीडियो बनाकर लाया था जो पुख्ता सबूत लगे। इस पर वे स्वयं दुकान पर पहुंची तो वहां कुछ और ही खेल चल रहा था। दुकान के भीतर मिलावटी शराब का कारोबार चल रहा था। मौके पर अवधि पार शराब मिली। इसके अलावा कच्ची शराब के जरीकेन व केमिकल वाली शराब बरामद हुई। बड़े पैमाने पर खाली बोतल भी थी, जिनका इस्तेमाल शराब भरकर बेचने में होता था।
एसडीएम ने बताया कि दुकानों के लाइसेंसी की ओर से शराब का न तो कोई रिकॉर्ड संधारित किया जा रहा था और न ही स्टॉक संबंधित कोई रिकॉर्ड था। दुकान के बाहर रेट लिस्ट भी नहीं चिपका रखी थी। इसके अलावा भी और भी कई कमियां मिली हैं।

सेल्समैन गिरफ्तार
दुकान का लाइसेंसी विकास टांक बताया गया है। मौके से सलूम्बर निवासी सैल्समैन हिम्मत सिंह राजपूत को गिरफ्तार किया गया है। दुकान का माल जब्त कर थाने लाया गया और दुकान सील कर दी गई।

बंदी के खेल का भी फूटा भांड़ा

दुकान के निरीक्षण के दौरान यह भी स्पष्ट हो गया कि पूरा खेल मिलीभगत से संचालित किया जा रहा था। जांच के दौरान स्टॉक रजिस्टर के पास में ही एक डायरी बरामद हुई, जिसमें अधिकारियों को बंदी देने का हिसाब किताब लिखा हुआ था।