सब्जियों के भाव में कोरोना वायरस का तडï़का

मंदसौर.
हरी सब्जियों के दामों में इन दिनों कोरोना वायरस का तड़का लगा हुआ है। इसके चलते सब्जियों के दाम दोगुना से लेकर तीन गुना अधिक हो गए है। ऐसे में हरी सब्जियां इन दिनों आम आदमी की थाली से दूर होती जा रही है। सब्जी मंडी में दो दिनों से भीड़ उमड़ रही है लेकिन दाम सुनते ही आधे लोग वापस घर की और लोट रहे है।

आलू, टमाटर और प्याज, धनिया, नींबू जैसी जरुरी चीजों के दामों ने भी छंलाग लगाई तो लोगों ने इनसे दूरी बना ली। अन्य हरी सब्जियों के दाम तो दो से तीन गुना हो गए। सब्जी लोगों तक पहुंचाने के लिए तो तमाम प्रकार की व्यवस्थाएं की गई है लेकिन लॉकडाउन के इन दिनों में बढ़ते दामों पर नियंत्रण के लिए प्रशासन द्वारा अभी कोई पहल नहीं की है। इसी कारण लगातार दाम बढ़ते जा रहे है। पहले जनता कफ्र्यु और अब दो दिन का लॉकडाउन हो गया और बुधवार को भी लॉकडाउन है।


प्रशासन की छुट पर सब्जियों के दाम पड़ रहे भारी
प्रशासन द्वारा सब्जी विक्रेता को भले ही सुबह के समय विक्रय करने की छुट दी गई हो और सब्जी विक्रेता मंडी से लेकर लोगों के घर तक पहुंच भी रहे है लेकिन फिर भी आम लोग सब्जी लेने से परहेज करने लगे है। हरी सब्जियों से आम लोगों की दूरी का कारण अत्यधिक दाम है। बाजार में सब्जी जिन दामों पर मिल रही है वह इन दिनों दोगुना से लेकर तीन गुना दामों पर बेची जा रही है। आलू ४० तो टमाटर भी ४० और पालक भी ४० रुपए प्रतिकिलो में मिल रहे है। ऐसे में अधिकांश सब्जियां दोगुना से अधिक दामों में मिल रही है।

इसके कारण महंगी सब्जियां हर कोई नहीं ले पा रहा है। धनिया और मिर्च और नींबू तक के दाम दोगुना कर दिए गए है। ऐेसे में हर कोई जरुरी सब्जी ही ले रहा है। महंगे दामों के कारण गरीब व मध्य तबका सब्जी के दाम की मार से अत्यधिक परेशान है।


सब्जी मंडी हुई बंद, घर जाकर दी जा रही सब्जी
लॉकडाउन के इस दौर में सब्जी मंडी बुधवार को नहीं खुली। जनता कफ्यू व लॉकडाउन के शुरु के दो दिनों में सब्जी मंडी खुली तो यहां लोगों की भीड़ जमा हो गई थी। इसके बाद प्रशासन ने मंडी को बंद कराने का निर्णय लिया। ऐसे में बुधवार को सब्जी मंडी नहीं खुली और सब्जी विक्रेता शहर की कॉलोनियों व रहवासी इलाको में घर-घर सब्जी विक्रय करने के लिए पहुंचे। लोगों को उनके घरों पर ही सब्जीयां विक्रेताओं से मिली। पहले सब्जी लेने के लिए बाजार में आने की छुट दी जा रही थी, लेकिन अब उसके लिए भी प्रतिबंध लगाया गया है।