श्रद्धांजलि सभा में बदल गया शौर्य रंगोत्सव

चित्तौडग़ढ़. लोगों को बुलावा एक दिन पहले होली के मौैके पर भाजपा चित्तौडग़ढ़ विधानासभा क्षेत्र के शौर्य रंगोत्सव में भाग लेने का भेजा गया था। रात में ही गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर के निधन के कारण एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित हो गया तो सुबह नजारा बदल गया। ईनाणी सिटी सेंटर में आयोजित शौर्य रंगोत्सव कार्यक्रम को भाजपा ने पर्रिकर को श्रद्धांजलि सभा मेें बदल दिया। भाजपा नेताओं ने पुष्पांजली अर्पित की। भाजपा चित्तौडग़ढ़ विधानसभा प्रभारी सुरेश झंवर ने बताया कि कार्यक्रम में पूर्व मंत्री श्रीचंद कृपलानी, भाजपा जिलाध्यक्ष रतनलाल गाडरी, विधायक चंद्रभानसिंह आक्या ने पर्रिकर के निधन पर शोक जताते हुए पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के निरस्त होने की घोषणा की एवं दो मिनट का मौन रख कर पर्रिकर को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सभा मे लोक सभा विस्तारक चंद्रशेखर,पूर्व विधायक गौतम दक, अशोक नवलखा, जिला प्रमुख लीला जाट,डेयरी चेयरमैन बद्रीलाल जाट, नगर परिषद सभापति सुशील शर्मा, प्रधान प्रवीण सिंह राठौड़,उप प्रधान सीपी नामधराणी,भीम सिंह ताणा, जिला महामंत्री देवी सिंह राणावत, सीकेएसबी चेयरमैन लक्ष्मण सिंह खोर, भूमि विकास बैंक चेयरमैन कमलेश पुरोहित, डा आई एम सेठिया, प्रमोद बारेगामा, जिला मीडिया प्रमुख सुधीर जैन,मंडल अध्यक्ष नरेंद्र पोखरना, प्रदीप सिंह नाहरगढ़,रोहिताश जाट,हरिसिंह जाट, दिनेश शर्मा, भंवरसिंह खरड़ी बावड़ी,महिला मोर्चा नगर अध्यक्ष विमला गट्टानी़ सहित कार्यकर्ता एवं पदाधिकारियों ने पर्रिकर के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।
सभा के बाद भोज की कांग्रेस ने की निंदा
शौर्य रंगोत्सव की जगह श्रद्धांजलि सभा आयोजन के बाद उसमें शामिल होने विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न स्थानों से आए लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था। हॉलाकि शोक का माहौल होने से मीनू बदल भोजन साधारण कर दिया गया था लेकिन शहर कांग्रेस ने राष्ट्रीय शोक के दिन इस स्नेह भोज को शाही भोज बताते हुए निंदा की।
पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिह जाडावत, शहर काग्रेंस कमेटी के अध्यक्ष प्रेमप्रकाश मुन्दडा,ग्रामीण ब्लॉक अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र जाट, नेता प्रतिपक्ष संदीप शर्मा आदि ने संयुक्त बयान में कहा कि पर्रिकर के आकस्मिक निधन पर पूरा देश राष्ट्रीय शोक मना रहा और दलगत राजनीति से उपर उठ सभी दल शोक जता रहे है। ऐसे माहौल में होली मिलन के नाम पर जो स्नेह भोज का आयोजन हुआ व आयोजकों की सोच को दर्शाता है। बयान में ये भी आरोप लगाया गया कि सहकारी संस्थाओं का दुरूपयोग करते हुए लोगो को एकत्रित किया गया। इन नेताओं के साथ पूर्व पालिका अध्यक्ष रमेशनाथ योगी, पूर्व प्रधान राजेश्वरी मीणा, पुष्पा जाट आदि ने भी पर्रिकर को श्रद्धांजलि अर्पित की है।

शौर्य रंगोत्सव निरस्त हो गया था। राष्ट्रीय शोक की सूचना मिलते ही पूरे आयोजन में मात्र श्रद्धांजलि देनेे के अलावा कोई बात नहीं हुई। सुबह निरस्त की सूचना भी की गई लेकिन जो लोग गांवों से आ गए थे वे भूखे घर नहीं जाए इसके लिए मात्र दाल-रोटी की व्यवस्था की थी। शाही भोज जैसे आरोप लगाना कांग्रेस की विकृत सोच का परिचायक है।
चन्द्रभानसिंह आक्या, विधायक, चित्तौडग़ढ़