शिक्षकों की वाक्पीठ में कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कांग्रेस के ही बड़े नेता भगोरा के लिए बोल दी यह बड़ी बात…जानकर रह जाएंगे आप अवाक

डूंगरपुर. कांगे्रसी नेताओं की खिंचतान अब मंचों पर भी नजर आने लगी हैं। दो दिवसीय संस्थाप्रधानों की वाक्पीठ के उद्घाटन समारोह में बतौर अध्यक्षता करते हुए कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया ने भरे सभाभवन में पूर्व सांसद एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता ताराचंद भगोरा पर तंज कसते हुए कहा कि हॉल तो सागवाड़ा में बना दे। लेकिन, भगोराजी नाराज हो जाएगे। यह बात सुनते ही मंच मौजूद अन्य अतिथि और दर्शक दीर्घा में बैठे संस्थाप्रधानों के मध्य तरह-तरह के संवाद शुरू हो गए। दरअसल शिक्षकों की लम्बे समय से मांग चली आ रही है कि एक शिक्षकों के लिए एक बड़ा हॉल बनाया जाए। इस मांग को लेकर खोडनिया ने यह बयान दिया। बाद में बोले कि सुरेन्द्रजी, भगोराजी सबके साथ मिलकर सागवाड़ा में जल्द ही हाल बना लिया जाए। खोडनिया के बयान पर वरिष्ठ नेता भगोरा ने कहा कि जिलाध्यक्ष ने यह क्यों कहा वह तो वहीं बता सकते हैं।लेकिन, भगोरा पूरे वागड़ का है और वागड़ की पूरी 36 कौम को साथ लेकर चलता है।विकास कहीं भी हो, भगोरा पूरा साथ देता है और देता आएगा। भगोरा विकास की राह में कभी रोड़ा नहीं बना है। मैं भी कुछ बोल सकता था। वरिष्ठ नेता के लिए बोले इन बयानों की चर्चा देर तक हुई।

यह थे अतिथि
माध्यमिक शिक्षा के संस्थाप्रधानों की वाक्पीठ जिला मुख्यालय पर ऑडोटोरियम हॉल में हुई। मुख्य अतिथि कांग्रेस नेता ताराचंद भगोरा थे। अध्यक्षता कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया ने की। विशिष्ठ अतिथि दरगाह कमेटी के पूर्व सदर असरार अहमद, प्रदेश महासचिव शंकर यादव, सुरेन्द्र बामणिया, प्रधान लक्ष्मण कोटेड, उर्मिला अहारी, संयुक्त निदेशक भरत मेहता, मुख्य जिलाशिक्षा अधिकारी हेमेन्द्र उपाध्याय, जिला शिक्षा अधिकारी बंशीलाल रोत सहित समस्त सीबीईईओ रहे। स्वागत डीईओ प्रारम्भिक गिरिजा वैष्णव, एडीईओ प्रकाश शर्मा, आयोजक विद्यालय की संस्थाप्रधान दीपिका द्विवेदी, एडीपीसी गोवर्धनलाल यादव, वाक्पीठ अध्यक्ष सुरेश मेहता, सचिव राकेश जोशी, प्रवक्ता रोहितकुमार जैन, संजय चौबीसा, ललित लोचन आदि ने किया। वाक्पीठ मेें द्वितीय सत्र में विषय विशेषज्ञों ने वार्ताएं प्रस्तुत की। संचालन गजेश जोशी ने किया।आभार सुरेश मेहता ने व्यक्त किया।

ब्लॉक स्तर पर करनी थी, हो गई जिला स्तर पर..
माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने 24 जुलाई को एक आदेश जारी करते हुए हवाला दिया था कि अब समग्र शिक्षा अभियान के तहत वाक्पीठ संगोष्ठी शिविरा पंचांग के अनुसार ब्लॉक स्तर पर कर्रवाई जाए। प्रत्येक ब्लॉक में 150 से 300 विद्यालयों को शामिल करना तय किया था। लेकिन, जिले में जिला स्तरीय वाक्पीठ संगोष्ठी को लेकर पूर्व में ही तैयारियां हो गई थी। शिक्षक संगठनों ने मांग उठाई है कि प्रारम्भिक शिक्षा विभाग के संस्थाप्रधानों के लिए ब्लॉक स्तर पर वाक्पीठहोनी चाहिए।