शरीर साथ नहीं दे रहा, मैं जा रहा हूं लिखा और खुद की कनपटी पर दागी गोली

उदयपुर. udaipur crime शहर के सर्वऋतुविलास क्षेत्र में बुधवार को एक अधिवक्ता के बीमार पिता ने लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद की कनपटी पर गोली मार आत्महत्या कर ली। आत्महत्या से पूर्व मृतक ने तीन लाइन के सुसाइट नोट पर लिखा कि 'मैं जा रहा हूं, इसका मैं स्वयं जिम्मेदार हूंÓ पुलिस ने रिवाल्वर के साथ सुसाइट नोट भी बरामद किया। सर्वऋतुविलास निवासी अधिवक्ता अविनाश कोठारी ने पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया कि उसके पिता सम्पत (64) पुत्र बहादुरमल कोठारी बीते कुछ वर्षाे से बीमार थे। उनकी बाइपास सर्जरी भी हुई थी। दोपहर करीब 1.10 बजे कमरे में सोते हुए ही उन्होंने खुद को गोली मार ली। घटना के वक्त मां सुशीला कोठारी भोजन पका रही थी, जबकि रूपम पितलिया कीचन में थी। धमाका सुन मां व रूपम दौड़े तो उन्हें पिता के कमरे में दीवार पर खून मिला। पिता के सिर से खून निकलता देख मां वहीं गश खाकर गिर पड़ी। रूपम उसे तथा रिश्तेदारों को सूचित किया। रिश्तेदार भी मौके पर पहुंचे। सूचना पर पुलिस उपअधीक्ष्ज्ञक राजीव जोशी, सीआई राम सुमेर मीणा, एसआई रणजीत मय जाप्ता मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके से प्रयुक्त रिवॉल्वर व सुसाइड नोट कब्जे में लिया। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव परिजनों को सौंपा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कनपटी से गोली आर-पार होने की पुष्टि हुई।

ये लिखा सुसाइट नोट में

सम्पत कोठारी ने अपने बेटे अविनाश को सम्बोधित करते हुए लिखा कि 'वकील साहब मैं आज दो बार गिर गया। अब मेरा शरीर काम नहीं कर रहा है। मैं जा रहा हूं। udaipur crime इसका जिम्मेदार मैं खुद हूं और कोई नहींÓ।