विजयस्तंभ बंद, देखना गौमुख और जौहर स्थल , फिर भी टिकट की करते मांग


चित्तौडग़ढ़. कहने के लिए कुछ स्मारको में प्रवेश को छोड़ दुर्ग पर घूमने के लिए कोई शुल्क नहीं है। इसके बावजूद शुल्क वाले स्मारक विजय स्तम्भ पर केमिकल वॉश के नाम पर 70 दिपन के लिए ताले लगाने के बावजूद उस क्षेत्र में प्रवेश करने वलो पर्यटकों से गार्ड टिकट की मांग कर रहे है। विजय स्तम्भ परिसर में ही पवित्र गौमुख कुण्ड व जौहर स्थल भी मौजूद है। इन स्थानों पर प्रवेश का कोई शुल्क नहीं है। विजय स्तम्भ को बंद कर दिए जाने के बाद ऐसी कोई आशंका नहीं है कि बिना टिकट कोई पर्यटक अंदर प्रवेश कर जाएगा फिर भी सुरक्षा गार्ड टिकट की मांग कर रहे है। नियमों से अनजान कई पर्यटक टिकट नहीं होने पर गौमुख व जौहर स्थल के भी दर्शन करने से वंचित हो रहे है। विजय स्तंभ की तीन मंजिलों पर केमिकल वॉश के लिए ४ जनवरी से ७० दिन के लिए बंद है।गेट पर टिकट मांगने से कई पर्यटक विजय स्तंभ को बाहर से निहारने की अभिलाषा भी पूरी नहीं कर पा रहे है। दुर्ग पर पहले भी आ चुके कई पर्यटक बिना टिकट केवल धार्मिक व सामाजिक महत्व के स्थल देखने आ रहे है। ऐसे में वे प्रवेश शुल्क वाला टिकट नहीं लेते। इन पर्यटकों को विजय स्तम्भ परिसर गेट पर टिकट की मांग हो रही। कई लोग नियमों से अनजान होने से निराश लौट रहे है।
फिर भी नहीं की दरों में कमी
दुर्ग पर कुंभामहल, विजयस्तंभ, पद्मिनी महल, रतनसिंह महल, तोपखाना सहित कुछ जगह पर प्रवेश के लिए ही टिकट की आवश्यकता होती है। भारतीय पर्यटक के लिए ४० रुपए और विदेश पर्यटक के लिए ६०० रुपए का टिकट तय है। चार जनवरी से विजय स्तंभ को बंद कर दिया गया उसके बाद भी पर्यटकों से शुल्क राशि में कोई कमी नहीं हुई। अब भी वहीं शुल्क वसूला जा रहा जो विजयस्तम्भ दर्शन के समय लिया जाता था।
तीन मंजिलों पर केमिकल वॉश के लिए हुआ बंद
विजय स्तंभ को चार जनवरी से आगामी ७० दिन के लिए चौथी, पांचवीं व छठी मंजिल पर केमिकल वॉश के लिए पर्यटकों के बंद किया है, जिसपर काम भी शुरु हो गया है। विजय स्तंभ की सातवीं, आठवीं व नौवीं मंजिल पर केमिकल वॉश के लिए १ जुलाई २०१६ से १६ अप्रेल २०१८ तक विजय स्तंभ बंद रहा था। शेष पहली, दूसरी व तीसरी मंजिल पर केमिकल वॉश के लिए तिसरी बार और विजय स्तंभ बंद होगा।

विजय स्तम्भ- फैक्ट
123 फीट ऊंटा
9 मंजिला इमारत
157 सीढिय़ा
पहली बार
1 जुलाई 2016 को बंद हुआ
16 अप्रेल 2018 को खुला
दूसरी बार
4 जनवरी 2019 को बंद आगामी 70 दिनों के लिए

लगभग एक लाख पर्यटक
आते है एक साल में

भारतीय पर्यटक शुल्क: 40 रुपए
विदेश पर्यटक शुल्क: 600
................
पर्यटक दुर्ग भ्रमण करने के लिए जो टिकट ले रहे वह पूरे दुर्ग का है। विजय स्तंभ के यहां पर जो टिकट चेक करे वे गोमुख कुंड, जौहर स्थल जाने वाले को रोक नहीं रहे है। सुरक्षा की दृष्टि से स्वयं भी कही भी टिकट चेक कर सकता हूं। किसी स्थल का अलग-अगल शुल्क तय नहीं होने से विजय स्तंभ बंद होने के बाद शुल्क में कमी नहीं की गई है।
सिद्धार्थ वर्मा, संरक्षण सहायक, पुरातत्व विभाग चित्तौडग़ढ