विजयदशमी के उपलक्ष में निकले बेवाण

मेवाड़ किरण @ नीमच -

अपना सरवानिया महाराज @ दिलीप राठोर
स्थानीय नगर में प्रतिवर्ष के अनुसार इस वर्ष भी श्री वीर तेजाजी की दसम के दिन से ही ‌श्री खाकर देव मंदिर परिसर से खाकर देव भगवान की आकर्षक झाकि वेवाण बनाई जाती है जो थेलागाडी में वेवाण के अन्दर विराजित होकर नगर भ्रमण के लिए निकलते हैं जो रोजाना रात्रि में नगर एवं आसपास के 15 से 20 कलाकारों द्वारा तेजाजी महाराज के भजन कीर्तन किये जाते हैं यह लगभग दस से पंद्रह दिन तक रोजाना चलाता है क्यो कि नगर में जहां जहां पर प्रतिवर्ष अनुसार महानुभव द्वारा वेवाण को रोका जाता है जहां पर भजन कीर्तन करने वालों का भोजन भी बनाया जाता है रात्रि में भजन कीर्तन करते करते जहां पर सुबह 5 बजे जाती हैं वहीं पर विश्राम किया जाता है पुनः दूसरे दिन सभी भजन कीर्तन वाले भोजन करने के बाद फिर निकलते हैं नगर भ्रमण पर पूरे नगर में घूमने के बाद पुनः श्री खाकल देव मंदिर पहुंचता है जहां पर महा आरती कर प्रसाद वितरण किया जाता है।

Source : Apna Neemuch