लोकसभा चुनाव से पहले BJP ने उठाया बड़ा कदम, पूर्व विधायक सहित पांच नेता भाजपा से निष्कासित

डूंगरपुर।

विधानसभा चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण भाजपा ने पूर्व विधायक देवेंद्र कटारा सहित 5 जनों को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से 6 वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया है।

 

जिलाध्यक्ष वेलजी पाटीदार ने बताया कि कटारा, देवल मंडल के पूर्व अध्यक्ष ईश्वर भट्ट, बिछीवाड़ा के पूर्व मंडल अध्यक्ष वाडीलाल कलाल, डंूगरपुर ग्रामीण मंडल के पूर्व अध्यक्ष रमेश जैन, बिछीवाड़ा के पूर्व मंडल महामंत्री रूपशंकर ताबियाड़ को निष्कासित किया गया है। विस चुनाव में पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर देवेंद्र कटारा ने निर्दलीय चुनाव लड़ा था। हालांकि उनकी जमानत जब्त हो गई थी।

 

बता दें कि शुक्रवार देर रात नगर निगम जयपुर में मेयर के उप-चुनाव में हुई अनुशासनहीनता के चलते बीजेपी ने जयपुर शहर उपाध्यक्ष महेश लाटा को भी पार्टी से बहार निकाल दिया है। पार्टी प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से छह वर्ष के लिये निष्कासित कर दिया गया है। महेश लाटा नगर निगम के नवनियुक्त मेयर विष्णु लाटा के भाई हैं। भाजपा ने यह कार्रवाई शहर के जिलाध्यक्ष संजय जैन की अनुशंषा पर की है।

 

गौरतलब है कि बीजेपी से पार्षद और महेश लाटा के भाई विष्णु लाटा ने नगर निगम जयपुर में मेयर के उप-चुनाव में पार्टी के खिलाफ जाते हुए मेयर पद के लिए नामांकन दाखिल किया था और जीत दर्ज की थी। इस दौरान भाजपा के सबसे मजबूत उम्मीदवार मनोज भारद्वाज को हार का सामना करना पड़ा था।

 

पूर्व मंत्री और विधायकों के लाख समझाने के बावजूद भी विष्णु लाटा ने अपना नाम वापस नहीं लिया था। नाम वापसी की समय सीमा समाप्त होने के बाद लाटा निगम पहुंचे और कहा कि भाजपा से बागी नहीं हूं और लोकतान्त्रिक व्यवस्था के तहत चुनाव लड़ रहा हूं। वहीं पार्टी ने मेयर विष्णु लाटा के चुनाव जीतने के बाद फैसला लिए हुए उन्हें भी पार्टी से निष्कासित कर दिया था।