मादक पदार्थ तस्करों पर कार्रवाई में टीआई की भूमिका संदिग्ध

मेवाड़ किरण@नीमच -

नीमच। सिंगोली पुलिस द्वारा धान के बोरों के बीच छिपाकर अवैध डोडाचूरा के आठ बोरों में करीब 170 किलोग्राम डोडाचूरा जब्त होने के मामले में पूर्व थाना प्रभारी समरथ सीनम की भूमिका उलझती ही जा रही है। हालांकि मामले में कार्रवाई के दौरान गड़बड़ी के चलते एसपी राकेश सगर ने थाना प्रभारी समरथ सीनम को सस्पेंड कर मामले की जांच एएसपी जितेंद्र सिंह पंवार को सौंप दी है। लेकिन जांच के दौरान कई ऐसे बिन्दु है, जिन पर टीआई की संदिग्ध भूमिका उसे उलझाए हुए हैं। अब पूरा मामला जांच रिपोर्ट पर ही टिका है।

एएसपी जितेंद्र सिंह पंवार ने बताया कि धान के बोरों के बीच छिपाकर अवैध डोडाचूरा के आठ बोरों में करीब 170 किलोग्राम डोडाचूरा सिंगोली पुलिस ने जब्त किया था। जिसमें पुलिस ने कार्रवाई भी की है और आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है। लेकिन शिकायत में उल्लेख है कि तस्करों को पुलिस ने दो दिन पहले पूछताछ में लिया था। जिसकी जांच की जा रही है। वह कोटा से कब निकले और कहा रूके और कब सिंगोली पहुंचे। यहां पर कहां रूके कितनी देर में माल भरा। यह पूरा समय कोटा की मोबाइल ट्रेस लोकेशन मल्टीप्लाई कर जांच में निकाला जाएगा। वहीं थाने पर कब आरोपियों को लाया गया। यह सब जानकारी जुटाई जा रही है। ट्रक को जब्त करने के दौरान उनकी पायलेटिंग कर रहे उनके पीछे जीप लेकर आए तीन बदमाशों के बारे में भी वह पता नहीं लगा पाए कि वह भी तस्कर है और उनके साथी है। एसटीएफ की टीम उनके पीछे से पहुंची और एके-४७ रखने की सूचना पर उन्हें पकड़ा। तब पता चला कि वह तस्कर है। जिसके बाद थाना पुलिस ने तीनों पर भी प्रकरण दर्ज किया गया। यह भी टीआई की लापरवाही रही है।

जल्द ही जांच पूरी होगी
सिंगोली थाना प्रभारी समरथ सीनम की लापरवाही उजागर हुई थी कि उन्होंने मादक पदार्थ से भरा ट्रक जब्त किया और उनके साथियों को छोड़े रखा और एसटीएफ ने पहुंचकर उन्हें पकड़ा। क्योकि उनमें एक आरोपी का एके-47 के साथ फोटो था। एसटीएफ ने सर्विलांस पर बदमाशों को मोबाइल डालकर लगातार लोकेशन ट्रेस की थी। एसटीएफ का मानना है कि दो दिन पहले सिंगोली में थे। थाना प्रभारी ने पूरे मामले में उच्चाधिकारियों को भी बड़ी कार्रवाई से तुरंत अवगत नहीं कराया। इस पूरे मामले में उनकी पूरी क्या लापरवाही रही और कहां भूमिका संदिग्ध है, इसकी एएसपी पंवार जांच कर रहे है, वह भी अब जल्द ही पूरी हो जाएगी।
- राकेश कुमार सगर, एसपी नीमच।