मंदसौर गोलीकांड मामले में टली बहस, अब मार्च में होगी

मेवाड़ किरण @ नीमच -

मंदसौर गोली कांड को लेकर हाई कोर्ट में दायर जनहित याचिकाओं में गुरुवार को बहस होना थी, लेकिन याचिकाकर्ता ने यह कहते हुए इसके लिए समय ले लिया कि सरकार इस मामले में दोबारा जांच के आदेश दे सकती है। ऐसा हुआ तो जैन आयोग की जांच रिपोर्ट पर बहस का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। इस पर कोर्ट ने मामले की सुनवाई मार्च के पहले सप्ताह तक आगे बढ़ा दी।
उल्लेखनीय है कि किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में पुलिस गोली से 5 लोगों की मौत हो गई थी। इन सभी के परिजन को तत्कालीन मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद एक-एक करोड़ रुपए मुआवजे का भुगतान हो चुका है। गोली कांड को लेकर 6 याचिकाएं हाई कोर्ट में चल रही हैं। इनमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने मुआवजे की घोषणा से पहले यह तक नहीं जाना कि मारे गए लोगों की आंदोलन में भूमिका क्या थी? वे लोग घटनास्थल पर क्यों गए थे? एक याचिका मृतकों के परिजन की तरफ से दायर हुई है। इसमें कहा है कि सिर्फ मुआवजे से कुछ नहीं होगा। जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई होना चाहिए।
गोली कांड को लेकर जस्टिस जेके जैन आयोग ने जांच भी की थी जिसकी रिपोर्ट अब तक सार्वजनिक नहीं हुई है। इस बीच नवंबर-दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव में प्रदेश में सरकार बदल गई। गुरुवार को याचिकाकर्ता की तरफ से कोर्ट को बताया गया कि ऐसी सूचना है कि नई सरकार इस मामले में दोबारा जांच के आदेश देने वाली है। स्थिति स्पष्ट होने के बाद ही इस मामले में बहस हो तो बेहतर रहेगा। इस पर कोर्ट ने याचिकाओं की सुनवाई मार्च के पहले सप्ताह तक के लिए आगे बढ़ा दी।

Source : Apna Neemuch