भीलवाड़ा नगर परिषद की सभापति ने थाम लिया कांग्रेस का हाथ


भीलवाड़ा. भीलवाड़ा नगर परिषद की सभापति ललिता समदानी ने बुधवार को जयपुर में कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कर ली है। समदानी को गत दो अगस्त २०१८ को ही भारतीय जनता पार्टी ने भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित किया था। बुधवार को जयपुर में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में प्रदेश महासचिव (संगठन) महेश शर्मा, कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व जहाजपुर के पूर्व विधायक धीरज गुर्जर, मांडल विधायक रामलाल जाट की मौजूदगी में समदानी ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण करवाई। खास बात है कि २० साल पहले भी भीलवाड़ा में इसी तरह का राजनीतिक घटनाक्रम हुआ था। उस समय भाजपा के बोर्ड में सभापति बनी मधु जाजू ने भी कांग्रेस का दामन थाम लिया था। इस तरह अब समदानी ने भी कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। सभापति समदानी को गत दो अगस्त २०१८ को भारतीय जनता पार्टी ने प्राथमिक सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया था। पार्टी ने अनुशासनहीनता के मामले में यह कार्रवाई की थी। इसमें आरोप था कि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से तालमेल नहीं था। एेसे में पहले सभापति से भाजपा ने पद से इस्तीफा मांगा लेकिन नहीं दिया। एेसे में पार्टी से बाहर कर दिया था। ०९ अक्टूबर २०१८ को सभापति को स्वायत्त शासन विभाग ने निलंबित किया था। ०७ नवंबर को दीपिकाकंवर ने सभापति पद की कुर्सी संभाली थी। ३८ दिन बाद १३ दिसंबर २०१८ को हाइकोर्ट से स्टे मिल गया। अगले दिन समदानी ने फिर से कुर्सी संभाल ली। अब सभापति ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली है।