ब्रेकिंग न्यूज़ -सांसद श्री सी.पी.जोशी विदेश दौरे को छोड़ पहुंचे दिल्लीकुछ ही समय बाद पंहुचेंगे वित्त मंत्रालय

सांसद श्री सी.पी.जोशी विदेश दौरे को छोड़ पहुंचे दिल्ली, कुछ ही समय बाद पंहुचेंगे वित्त मंत्रालय
वित्त मंत्री एवं विभाग के अधिकारीयों से करेंगे चर्चा
वर्तमान अफीम नीति में संशोधन को लेकर सांसद महोदय के प्रयास जारी

सांसद सी.पी.जोशी जी द्वारा अफीम किसानों के हित में कराये कई निर्णय

अब तक के इतिहास में अफीम नीति को लेकर हुये सार्थक प्रयास

किसानों को मिली राहत

पूर्व में उठाये गये किसानों के लिये महत्वपूर्ण कदम
वर्ष 2004-05 से अब तक के कटे पट्टे 103 की निर्धारित औसत पूर्ण करने पर जारी किये गये। सरकार द्वारा किसानों के हित में किये गये इस निर्णय से लगभग 30,000 नये अफीम लाईसेंस जारी हुये।
संसदीय क्षेत्र में वर्ष 2016-17 में कुल 4265.65 हैक्ट. भूमि पर अफीम की बुवाई की गई।

पोलिसी में वर्णित 58 की औसत के बजाय 49 की औसत के आधार पर वर्ष 2016-17 के लिये किसानों को लाईसेंस जारी किये गये।

अफीम नीति वर्ष 2016-17 में राहत देते हुये वे किसान जो कि 2007-08 व 2008-09 में घटिया अफीम देते हुये पोलिसी के तहत लाईसेंस प्राप्त करते हुये 2008-09 व 2009-10 में डिलाईसेंस नहीं हुये ऐसे किसानों को विषेष राहत प्रदान करते हुये पात्र माना गया।

वर्ष 2013-14 से 2015-16 के मध्य लाईसेंस की पात्रता रखने वाले किसान किसी कारण से बुवाई नहीं कर पाये उन्हे भी नियमानुसार अफीम लाईसेंस जारी किये गये ।

बड़ीसादड़ी तहसील क्षेत्र के अफीम किसानों का बन्दोबस्त प्रतापगढ़ के बजाय चित्तौड़गढ़ में यथावत् रखा गया।

किसानों को अफीम फसल में खराबे के कारण हंकवाई के पश्चात पोस्त दाना लेने का निर्णय।
रोटावेटर से हंकाई पर रोक, पोस्त दाने का हक किसानो को।

ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को पुनः लाईसेंस देने का निर्णय।

गाँव में छः पट्टों की अनिवर्यता समाप्त करते हुये एक पट्टे होने पर भी अफीम खेती किये जाने का निर्णय।
वर्ष 2009-10 से 2014-15 तक 55 डिग्री से कम गाढ़ता के कारण कटे अफीम को बहाल किये जाने का निर्णय ।

अफीम के पट्टे मुखिया के माध्यम से सीधे गाँव में किसानों को वितरित करने का निर्णय।

गैर आबाद गाँव में अफीम बुवाई करने निर्णय।
काश्तकारों को घर के पास 3 कि.मी. परिधी तक स्वंय के खेत पर अफीम खेती करने की छुट।

गाजीपुर कारखाने में एक के स्थान पर दो शिफ्ट एवं नीमच कारखाने में दो के स्थान पर तीन शिफ्ट आरम्भ की गई।

नीमच एवं गाजीपुर कारखानों के विस्तार हेतु क्रमश: 10 करोड़ रू. 5 करोड़ रू. की राशि स्वीकृत।
अफीम तौल के घटीया व अशुद्धिया के मानकों मे परिवर्तन।

व्हाट्सएप्प (WhatsApp) पर शेयर करें