बेणेश्वर मेले में ‘वागड़ श्री’ व ‘वागड़ नी रूपारी’ स्पर्धा रहेगी आकर्षण का केन्द्र

बेणेश्वर मेले में ‘वागड़ श्री’ व ‘वागड़ नी रूपारी’ स्पर्धा रहेगी आकर्षण का केन्द्र
बेणेश्वर मेला तैयारी बैठक
डूंगरपुर. आगामी दिनों में वागड़ अंचल के सबसे बड़े बेणेश्वर मेले के सफल आयोजन को लेकर जिला कलक्टर चेतन देवड़ा की अध्यक्षता एवं जिला पुलिस अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा की उपस्थिति में सोमवार को जिला परिषद के ईडीपी सभागार में बैठक आयोजित की गई। उन्होंने बेणेश्वर मेले में लोगों की बड़ी तादात में भागीदारी को देखते हुए माकूल व्यवस्थाएं करने के साथ ही पुख्ता सुरक्षा प्रबंधन के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि वागड़ के लिए बड़ा उत्सव है। इसका आयोजन इस तरह से किया जाए कि प्रत्येक व्यक्ति भागीदार बने तथा हर किसी को गौरव का अहसास हो। उन्होंने इसके लिए टीम वर्क करने की बात कही।
मुख्य मेला 19 को
बैठक के प्रारंभ में अतिरिक्त जिला कलक्टर विनय पाठक ने बताया कि 15 फरवरी से 23 फरवरी तक चलने वाले मेले में 19 को मुख्य मेला रहेगा। 17 से 19 फरवरी तक जिला प्रशासन, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, पर्यटन विभाग, खेल विभाग एवं नेहरू युवा केन्द्र के संयुक्त तत्वाधान में खेलकूद एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे।
कलक्टर देवड़ा ने मेले में नवाचार करते हुए रोचक प्रतियोगिताओं के आयोजन संबंधित निर्देश प्रदान किए। उन्होंने मेले में ‘वागड़ श्री’ तथा ‘वागड नी रूपारी’ प्रतियोगिता कराने को कहा। प्रतिभागी स्थानीय पहनावे तथा आभूषणों के साथ भाग लेंगे तथा ज्यूरी ‘वागड़ श्री’ तथा ‘वागड नी रूपारी’ का चयन करेगी। इसके साथ ही साफा बांधों प्रतियोगिता, वन मिनट प्रतियोगिता, पर्यटकों एवं स्थानीय के बीच रस्साकशीं, कुर्सी रेस, मटका दौड़ आदि प्रतियोगिताओं के लिए भी निर्देश दिए।
यह भी दिए निर्देश
कलक्टर ने मेले से पूर्व सडक़ों की मरम्मत कराने, चेतावनी एवं सुरक्षा संबंधित बोर्ड लगाने, पेयजल प्रबंधन करने, विद्युत की निर्बाध आपूर्ति करने, इमरजेंसी लाइट्स, सर्च लाइट फायर बिग्रेड, मजबूत बेरिकेटिंग बनाने, सीसीटीवी कैमेरे लगाने, एनाउसमेंट की व्यवस्था सुचारू करने, दस वॉच टावर बनाने, परिवहन सुविधा, पार्किंग आदि सुनिश्चित करने को कहा।
पॉलीथिन पर प्रतिबंध
कलक्टर ने कहा कि बेणेश्वर मेले के दौरान पॉलिथिन कैरी बेग्स पर पूर्णत: प्रतिबंध की पालना सुनिश्चित करवाना सुनिश्चित करने के लिए सार्थक प्रयास किए जाएं। उन्होंने इस संबंध में जागरूकता के लिए पंचायत समिति को बोर्ड एवं होर्डिंग्स बनावकर मेले में सहज दृश्य स्थान पर लगवाने के लिए भी निर्देश दिए।