बारिश के दौर में मौसमी बीमारियों को लेकर रहें अलर्ट-एडीएम

प्रतापगढ़. जिले में बारिश के दौर में मौसमी बीमारियों बढऩे की आशंका के मद्देनजर चिकित्सकीय सेवाओं को अलर्ट पर रखा गया है। एडीएम हेमेंद्र नागर ने इसको लेकर जिले भर के चिकित्सकीय संस्थानों पर गठित रैपिंड रेस्पॉस टीम को आवश्यक दवाई के साथ अलर्ट पर रहने निर्देश दिए है। वे शुक्रवार को जिला स्वास्थ्य समिति की मासिक बैठक ले रहे थे। इस दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ वी के जैन ने विभिन्न स्वास्थ्य सेवाओं की प्रगति रिपोर्ट के साथ मौसमी बीमारियों एवं नियंत्रण के लिए किए गए व्यवस्थाओं की जानकारी दी। सीएमएचओ ने कहा कि मौसमी बीमारियों को सीजन के देखते हुए चिकित्सकों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं। इसी के साथ ही चिकित्सकीय संस्थानो पर सर्पदंश, डॉग बाइट, स्क्रब टाइफस की दवाएं व वैक्सीन की उपलब्धता सौ फीसदी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। बैठक में सभी खण्ड मुख्यालयों के अधीन आने वाली जीवनवाहिनी एंबुलेंस की उपलब्धता और खराबी आदि के बारे में जानकारी ली गई। इस अवसर पर निर्णय किया गया है कि एंबुलेंस को ऑपरेट करने वाली कंपनी के प्रतिनिधि एंबुलेंस के ऑफ रोड़ होने की स्थिति में सीएमएचओ कार्यालय में अवगत करवाएंगे। बैठक में मुख्यमंत्री निशुल्क दवा व जांच योजना, एमएमवी एमएमयू, जननी शिशु स्वास्थ्य कार्यक्रम, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, आरबीएसके, पीसीपीएनडीटी, मेंटल हेल्थ, एनसीडी, डेंगू मलेरिया मौसमी बीमारियां, जल शुद्धिकरण, दक्षता कार्यक्रम के साथ ही संस्थानों पर वित्तीय स्थिति के बारे में जानकारी ली गई है। बैठक में जिला चिकित्सालय से डिप्टी कंट्रोलर डॉ ओपी दायमा, आरसीएचओ डॉ दीपक मीणा, बीसीएमओ डॉ आर एन सरसोदिया, डॉ एस के जैन, डॉ कुमुद माथुर, डॉ नरेंद्र वर्मा, डॉ सौरभ जारौरी, डीपीसी डॉ अंकित के साथ ही सभी सीएचसी और आदर्श पीएचसी के चिकित्साधिकारी व एनएचएम कर्मी मौजूद थे।
पोस्टमार्टम में अनावश्यक देरी बर्दाश्त नहीं
जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर हेमेंद्र नागर ने पोस्टमार्टम में अनावश्यक देरी पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि यदि किसी घटना-दुर्घटना अथवा बीमारी की स्थिति में किसी व्यक्ति की मौत चिकित्सा संस्थान पर अथवा रैफर करने के बाद रास्ते में हो जाती है, तो उसके पोस्टमार्टम जारी निर्देशों के तहत ही किया जाएगा। इस कार्य में अनावश्यक देरी नहीं करने के निर्देश दिए।
इन मुद्दों पर हुआ निर्णय
-मौसमी बीमारियों में डॉक्टर और दवा के साथ स्टाफ रहेंगे 24 घंटे रहेंगे मुस्तैद।
-भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के केसेज में कमी पर जिम्मेदारों को नोटिस मिलेगा।
-राजश्री योजना में लाभार्थियों को शत प्रतिशत लाभ उनके खातें में देना होगा।
-एमएमवी और एमएमवी वाहनों की लोकेशन व सुविधाओं का औचक निरीक्षण हर महीने होगा।
-औचक निरीक्षण में स्टाफ निर्धारित ड्रेस कोड में नहीं मिलने पर कार्रवाई।
-हर माह आय-व्यय का ब्यौरा बैठक में प्रस्तुत करने के निर्देश।
-क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम और मिशाल में अच्छी रैंक पर लाने का निर्णय