बांसवाड़ा : मकानों पर गिरे 11केवी बिजली के तारों से लोगों में खौफ, शिकायतों के बावजूद विद्युत निगम बेफिक्र

बांसवाड़ा. पिछले दिनों अंधड़ और तेज बारिश के दौरान शहर की मदार कॉलोनी में जामफलवाड़ी व नाले के पास दो मकानों पर गिरे 11 केवी लाइन के तार परेशानी का सबब बने हुए हैं। घर के मालिकों में करंट लगने का खौफ है, लेकिन उनकी शिकायतें विद्युत निगम के अधिकारी-कर्मचारी अनसुनी कर रहे हैं। लाइन हटाने की लंबी प्रक्रिया का हवाला देकर क्षेत्रवासियों को बीते आठ दिन में तीन बार उपखंड कार्यालय शहर द्वितीय दौड़ाया गया। इसके बाद भी शुक्रवार शाम तक किसी ने लाइन व्यवस्थित कराने की सुध नहीं ली। इसके चलते मकान मालिकों ने सूखे बांस की मदद से फिलहाल तारों को अपनी छतों से सडक़ की ओर धकेले रखे हैंं, लेकिन नम दीवारों से तार सटे हुए होने से करंट का खतरा बना हुआ है।

बांसवाड़ा : मंदारेश्वर शिवालय में दर्शन के लिए जा रहे एमबीसी के जवानों से मारपीट, बदमाशों ने खुद को बताया इलाके का दादा और...

खंभे को टेका दिया और चल दिए
मकान मालिक तौसिफ खान ने बताया कि अंधड़ और बारिश से कुछ दिन पहले घर के सामने का खंभा झुककर गिरने लगा। इससे नाले की तरफ खंभे तक जा रहे लाइन के तार उनके और पड़ोसी के घर की छत पर आ गिरे। शिकायत पर निगमकर्मियों ने खंभे के पेंदे में हुए गड्ढे को ईंट-पत्थरों से भरा और टेका दे दिया। उसके बाद लाइन के तार छोडकऱ चल दिए। निगम के केंद्र पर दो बार शिकायत लिखवाई, लेकिन कोई नहीं आया। शुक्रवार को सहायक अभियंता को प्रार्थना पत्र देने पर वर्क ऑर्डर जारी किया गया, लेकिन एक सप्ताह में लाइन सुधारने का आश्वासन दिया है। ऐसे में करंट के खतरे को लेकर घर के लोग और पड़ोसी चिंतित है। कनिष्ठ अभियंता सैय्याफ खान ने उनका कहना है कि खंभा दुरुस्त कराने और लाइन शिफ्ट करवाने का काम आसान नहीं है। प्रक्रिया में समय लगता है।

इनका कहना है
मामला मेरे संज्ञान में गुरुवार को ही आया है। इस पर दूसरे ही दिन वर्क ऑर्डर जारी कर दिया है। कनिष्ठ अभियंता को प्राथमिकता के साथ लाइन शिफ्ट कराने के निर्देश दिए हैं।
आरके मीणा, सहायक अभियंता शहर द्वितीय डिस्कॉम