बांसवाड़ा : पुलिस को चकमा देकर फरार बलात्कार का आरोपी जंगल में जा छिपा, घेराबंदी कर पकडऩे पहुंचे तो किया पथराव, आखिरकार…

बांसवाड़ा. जज के निवास पर न्यायाधीश के समक्ष पेश करने के बाद पुलिस की लापरवाही के चलते कूद कर फरार हुए बलात्कार आरोपी को पुलिस की टीम ने बुधवार को तीसरे दिन नाहरपुरा के जंगल क्षेत्र से घेराबंदी कर दबोच लिया। पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम ने बताया कि आरोपी जालमपुरा निवासी गटू पुत्र भूरजी कटारा पुलिस हिरासत से छूटने के बाद जंगल में छिपा बैठा था और वहीं से गुुजराज भागने की योजना बना रहा था, लेकिन इससे पहले ही पुलिस की टीमों ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने जब आरोपी को पकडऩा चाहा तो उसने दोबारा भागने का प्रयास और पथराव भी किया है।

यह था मामला
बलात्कार के आरोप जालमपुरा निवासी गटू को सल्लोपाट थाने के एएसआई नरपत सिंह और कांस्टेबल प्रदीप 15 अप्रेल को बागीदौरा जज के समक्ष पेश करने के लिए गए थे। न्यायाधीश के समक्ष पेश कर दिए जाने के बाद पुलिस की लापरवाही के चलते आरोपी गटू दूसरी मंजिल से कूदकर फरार हो गया था। इस पर बागीदौरा पुलिस उप अधीक्षक गोपीचंद मीणा, एसआई कपिल पाटीदार, कलिंजरा सीआई प्रदीप सहित अन्य पुलिस अधिकारियों की एक टीम बनाई गई, जो आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगी।

जीजा के संपर्क में था आरोपी
सल्लोपाट थाना प्रभारी कपिल पाटीदार ने बताया कि आरोपी गटू गिरफ्तारी के समय से ही बार बार अपने जीजा नवागांव निवासी लालू का नाम ले रहा था। इसके अलावा जमानत के लिए भी वह बार-बार उसी को बुलाने को कह रहा था। इतना ही नहीं लालू के मोबाइल नंबर भी आरोपी को मुंह जुबानी याद थे। इस पर संदेह के आधार पर पुलिस ने लालू के मोबाइल पर आने वाले कॉल पर निगरानी रखना शुरू किया। इसी दरम्यान लालू ने बताया कि गटु राजकोट गुजरात में रामभाई भरवार के ट्रेक्टर चलाने का काम करता है। गटू बचपन से वहीं रहकर काम करता है। इस पर पुलिस ने राजकोट के राम भाई भरवार को मोबाइल पर गटू के उक्त प्रकरण की जानकारी दी और हालात के बारे में बताया। साथ ही आरोपी की कोई सूचना आने पर तुरंत बताने के लिए कहा।

एएसआई पर पथराव कर फिर भागना चाहा
एसपी ने बताया कि 16 अप्रेल की सुबह राजकोट के रामभाई ने फोन कर बताया अज्ञात नंबरों से गटू का फोन आया है और राजकोट आने का बोला है। साथ ही रुपए नहीं होना बताया है। इस पर साइबर सेल के प्रवीण ङ्क्षसह ने नंबरों की लोकेशन एवं आईडी से पता किया तो सामने आया कि गटू गांव जालिमपुरा के कमजी पुत्र हकरू कटारा के नाम की सिम का उपयोग कर रहा है और वह वर्तमान में जालिमपुरा के जंगलों में हैं। इस लोकेशन पर टीम ने जालिमपुरा जंगल की घेराबंदी की। बुधवार को आरोपी गटू भागते समय एएसआई हरिशचन्द्र के सामने ही आ गया। आरोपी ने जब पुलिस को अपने सामने पाया तो वह फिर भागने लगा और पहाड़ी पर चढ़ गया और वहां से एएसआई पर पथराव कर दिया। इसमें पत्थर एएसआई की कमर पर एवं अन्य जगह लगा। इसके बाद भी एएसआई ने आरोपी का पीछा नहीं छोड़ा और कुछ दूर भागने के बाद उसे दबोच लिया। फिर भी आरोपी ने भागने का प्रयास किया।

बीहड़ों का भरपूर फायदा
एसआई कपिल पाटीदार ने बताया कि आरोपी अनास नदी के बीहड़ क्षेत्रों का पूरा फायदा उठा रहा था। गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने रात को भी आस पास कई जगह डेेरे डाले। सुबह के समय आरोपी कुछ पुलिस कर्मियों को दिखाई पड़ा। पुलिस की जानकारी में आया कि आरोपी गटू की नाहरपुरा कमली भुआ रहती है। संभवत वह वहां जा सकता है। इस पर पुलिस ने इन्हीं इरादों से आरोपी का पीछा करते हुए जंगल में बढ़ी जहां पुलिस को सफलता मिली।