बांसवाड़ा जिले में मूसलाधार बारिश, घर के बाहर खेल रहे तीन भाई-बहनों की पानी से भरे गड्ढे में डूबने से मौत, परिवार में मातम

गांगड़तलाई/बांसवाड़ा. सल्लोपाट थाना क्षेत्र के खूंटी बिजिया गांव में रविवार शाम बरसात के पानी से भरे गड्ढे में डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई। इनमें दो सगे भाई-बहन हैं और एक चचेरा भाई है। खूंटी बिजिया निवासी शंकर भूरिया का आठ वर्षीय पुत्र राहुल व छह वर्षीय पुत्री आशा और शंकर के छोटे भाई रमेश का आठ वर्षीय पुत्र अश्विनी घर के बाहर खेल रहे थे। इस दौरान तीनों घर के पीछे की ओर कुछ ही दूरी पर स्थित एक गड्ढे की ओर चले गए और पानी में डूब गए। काफी देर हो जाने के बाद जब बच्चे घर नहीं लौटे तो बच्चों की मां उन्हें ढूंढने निकली।

बांसवाड़ा : मूसलाधार बारिश से गणाऊ पुल पर बह निकला पानी, जान जोखिम में डालकर निकले लोग

चप्पल देख मां को हुई शंका
मृतक बच्चे राहुल की मां विमला ने बताया कि वह बच्चों को ढूंढते हुए गड्ढे की ओर गई तो गड्ढे के बाहर बच्चों की चप्पलें दिखाई पड़ीं। इस पर उसे आशंका हुई और उसने आवाज देकर गांव के अन्य लोगों को बुलाया। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों में से कुछ लोगों ने गड्ढे में उतर कर देखा तो तीनों बच्चे मिल गए। परिजन उन्हें गांगड़तलाई लेकर अस्पताल की ओर लेकर दौड़े, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। सल्लोपाट थानाधिकारी कपिल पाटीदार ने बताया कि सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। एक ही परिवार के तीन बच्चों की मौत से पूरा गांव सदमें में है। आसपास क्षेत्र में भी हादसे की चर्चा होती रही। जानकारी मिलते ही बच्चों के घर के बाहर पूरा गांव आ गया।

Video : बारिश से बांसवाड़ा-उदयपुर मार्ग पर पेड़ गिरा, लगा जाम, हटाने में छिड़ा छत्ता तो मधुमक्खी ने किया हमला

जगह-जगह है खतरा
बसरात के साथ नदी नालों के उफान पर आने और जगह जगह गड्ढों में पानी भरने के साथ ही हादसों का खतरा बन गया है। बच्चे पानी की गहराई और वेग से अनजान होने से कई बार हादसे का शिकार होते रहे हैं। पूर्व में बरसाती नालों में बच्चों के बह जाने की घटनाएं भी हो चुकी हैं और ऐसे में परिजनों को बच्चों को खतरे से बचाने के लिए खास निगरानी रखने की जरूरत है। बच्चों को पानी के आसपास देखकर लोगों को भी उन्हें पानी से दूर करने व सीख देने की पहल की आवश्यकता है।