फिर लौटी शीतलहर, फसलों पर बर्फ जमने से हुआ नुकसान

मंदसौर । जिला मुख्यालय सहित अंचल में मौसम में अचानक फिर से शीतलहर के आने के कारण फसलों को काफी नुकसान हुआ है। फसलों पर बर्फ जम गईहै।किसानों की माने तो अफीम, चना, धनिया, मैथी, रायडा सहित कई फसलों को इससे नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है कि शनिवार को चली बर्फीली हवा और ठंड से करीब ४० प्रतिशत का नुकसान हुआ है। और धनिया की फसल तो पूरी तरह खराब हो गईहै। बुगलिया क्षेत्र के कुछ किसानों ने तो चने की फसल खराब होने की दशा में मवेशियों को खिला रहे है।
फसल और पाइप पर जम गई बर्फ
बुगलिया के आसपास सभी गावों में शनिवार की रात को अधिक ठंड के कारण खेतों में बर्फ जम गई। जिससे लगभग सभी फसलों के खराब होने की प्रबल संभावनाएं जताईजा रही है। गांव दिलावरा में बबलु मीणा ने कुए पर देखा कि पाईप के ऊपर बर्फ जमी हुई है किसानों ने बताया कि सभी फसलों को नुकसान पहुंचा है। किसान घीसालाल, राधेश्याम, भंवरलाल, ओमप्रकाश, भागीरथ ने बताया कि इससे अफीम की फसल पर बहुत अधिक प्रतिकूल असर पड़ा है। सरपंच रंगलाल मीणा, बोतलाल भारतसिंह ने बताया कि गेंहू, चना, रायड़ा में बहुत अधिक नुकसान हुआ है।
लिंबावास सहित आसपास के गांवों में भी हुआ नुकसान
लिम्बावास,बांसखेडी,पिरगुराडिया, गोपालपूरा, कितुखेडी, झार्डा, अड़मालिया, सहित कई गांवों में फिर से शीतलहर चलने से काफी नुकसान हुआ। फसलों में शनिवार की रात से बर्फीली हवा के साथ ठंड के चलते रविवार कि सुबह में सभी फसलो पर बर्फ की परत जम गई।इससेे फसलों में काफी नुकसान हुआ है। किसान कारूलाल, जगदीश, प्रमोद, अनोखीलाललाल सहित किसानों ने बताया कि अभी वर्तमान में हमने गेंहू, मैथी फसल की बुआई कर रखी है, लगभग सभी फसलों पर बालिया आने लगी है 15दिन पहले भी शीतलहर की चपेट में आने से 30 प्रतिशत नुकसान हुआ था। और अब बर्फ जमने से ४० प्रतिशत का नुकसान हुआ है।
किसान मनोहरलाल, दिलीप सिंह, दशरथ, दरबार सिंह, कमल सिंह ने बताया कि हमने दो बीघा खेत में मैथी की फसल की बुआई कर रखी है। शनिवार को रात्री मे अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ। फ सल पर बर्फ की परत जमने से मैथी की पूरी फसल मुरझा गई। किसान गोपाल धनगर, कमल सहित अन्य ेकिसानों ने कहा कि धनिया कि फसल हुई पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। किसान रमेश, वरदीचन्द्र, कैलाश, समरथ सहित ने बताया कि हमारे निजी कुए नहीं होने कि वजह से हमने खेतों में ंहंकाई कर चने की फसल का छिडकाव किया था। चना की फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। अफीम किसान लक्ष्मीनारायण सेन ने बताया कि अफीम की फसल पर बर्फ की परत जमने की वजह से फसल के पत्ते पिले पडऩे लगे व फुल भी सही से नही खिल रहे है। डोडे भी नहीं बढ़ रहे है।किसानों को चिंता सताने लगी है