फर्जी शादी रचा दुल्हन से जेवर-नकदी लूट की मास्टरमाइंड महिला गिरफ्तार

कुंभलगढ़. शादी रचाने का षडय़ंत्र रचकर दुल्हन ही घर से लाखों रुपए के जेवर व नकद रुपए लेकर फरार हो गई। पांच साल से फरार फर्जी शादी रचने की मास्टरमाइंड महिला को केलवाड़ा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कुंभलगढ़ डीएसपी नरपतसिंह ने बताया कि उपलावास कणुजा निवासी हीरासिंह से फर्जी शादी रचा कर करीब सवा दो लाख रुपए ऐंठने के मामले में पांच वर्ष से फरार चल रही धोखाधड़ी की मास्टरमाइंड एबी नगर बेड़वास, प्रतापनगर (उदयपुर) निवासी इन्द्रा उर्फ लीला उर्फ मीना कंवर पत्नी राजूलाल दर्जी को केलवाड़ा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। बदमाश महिला इन्द्रा उर्फ लीला को अदालत ने स्थायी वारंटी है, जबकि पुलिस के टॉप 10 मोस्ट वांटेंड अपराधियों की श्रेणी में ले रखा था और गहनता से तलाश की जा रही थी। सीआई शैतानसिंह नाथावत के नेतृत्व में निर्भयसिंह, दिनेश व अनिता ने दरीबा में किसी रिश्तेदारी में आने की सूचना मिली, जिस पर पुलिस ने दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया। उल्लेखनीय है कि इन्द्रा ने एक कई जगह खाली भूखंड को अपना दिखाकर फर्जी तरीके से रजिस्ट्री करवा कर लाखों रुपए ऐंठ लिए। चित्तौडग़ढ़ के भोपालसागर व उदयपुर में भी कई प्रकरण दर्ज हैं। आरोपी लंबे समय से नाम बदलकर रह रही थी, जिससे उसका पता नहीं चल पाया।

यह था मामला
उपला वास, कणुजा निवासी हीरासिंह पुत्र कानसिंह खरवड़ की पहली पत्नी नाते चली गई। हीरासिंह ने दूसरी शादी की बात समाज में चलाई। तभी बुछड़ो की भागल, बनोकड़ा निवासी मोहनसिंह पुत्र देवा राजपूत, परमारों की भागल बनोकड़ा निवासी दौलसिंह, बनोकड़ा निवासी किशनसिंह पुत्र रतनसिंह, बाबूसिंह पुत्र नवलसिंह पडियार, रूपण का चौणा, पीपाणा निवासी जालन्धर नाथ पुत्र दौलनाथ ने शादी का झांसा देते हुए पाखंड के खीगरा की भागल की विधवा सुंदरबाई से शादी का प्रलोभन दिया। इसके एवज में 2 लाख 27 हजार रुपए नकद लिए। फिर हलफनामा करवा शादी कर ली। दो से तीन दिन दुल्हन बनकर रही और उसके बाद सुंदरबाई पीहर जाने की बात बोलकर गई, जो वापस ही नहीं आई। केलवाड़ा थाने में प्रकरण दर्ज होने के बाद पुलिस ने फर्जी दुल्हन सुंदर बाई सहित छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया था।