प्राकृतिक नाले पर पाइप डालने को लेकर भिड़े दो पक्षों में हुई मारपीट

उदयपुर/ पारसोला. प्री-मानसून की गत दिनों हुई बरसात के बीच बाधित बरसाती पानी की निकासी को लेकर ग्राम पंचायत की ओर से प्राकृतिक नाले पर हुए निर्माण को हटाने का मामला शुक्रवार को तूल पकड़ लिया। कस्बे में मोखमपुरा से नई आबादी को जोडऩे वाले नाले पर पाइप डालने को लेकर गहराए विवाद के बीच संजीव सेठ व मोहम्मद ईस्माइल लखारा के बीच मारपीट हो गई। यह देख बड़ी संख्या में कस्बेवासी मौके पर आ जुटे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने कार्रवाई की और दोनों को थाने ले गई।
इधर, ग्राम विकास अधिकारी बाबूलाल रामावत ने बताया कि ग्राम पंचायत प्रशासन से बगैर अनुमति लिए लोग पाइप डालकर नाले की पानी निकासी क्षमता को कम कर रहे हैं। मामले में दोनों पक्षों को नोटिस दिया जाएगा। आरोप है कि ग्राम पंचायत की ओर से प्राकृतिक नाले पर निर्माण करने वाले लोगों को अब तक औपचारिक तौर पर केवल नोटिस थमाए जाते रहे हैं। कार्रवाई के नाम पर राजनीतिक दबाव में आकर पंचायत प्रशासन मौन थामे रहता है।
पूर्व सरपंच जीवाराम मीणा ने आरोप लगाया कि कस्बे में बीते साल के दौरान प्राकृतिक नालों पर अवैध निर्माण हुआ है। बोहरवाड़ी, सदर बाजार से बहने वाले गंदे पानी को मस्जिद के समीप होते हुए सामाओटा तालाब तथा आजाद चौक व तेलीवाड़ा से होकर आने वाले सीवरेज को एसबीआई गली से लाकर तालाब में मिलाना था, जबकि पंचायत की लापरवाही से इसे गोरिया आंबा की तरफ मोड़ा गया। मास्टर प्लान से हटकर तकनीकी खामी से हुए निर्माण के कारण अधिक बरसात के दौरान संबंधित नाले ओवरफ्लो होकर समस्याओं को जन्म दे रहे हैं।