प्रतापगढ़ में दो घंटे में चार इंच बारिश


नदी-नाले उफान पर
कई पुलियाओं से पानी बहने से अवरुद्ध रहे मार्ग
प्रतापगढ़
जिले में गत दिनों से बारिश का दौर खंडवृष्टि के रूप में जारी है। शहर समेत जिले में रविवार को भी बारिश हुई। शहर में दोपहर को दो घंटे तक तेज बारिश हुई। जो चार इंच दर्ज की गई। मूसलाधार बारिश से नदी-नाले उफान पर रहे। इससे कई मार्ग भी अवरुद्ध रहे। बारिश से फसलें खराब हो गई है।
वेग से बहे नाले
तेज बारिश के कारण कई नाले वेग से बहे। इसमें बांसवाड़ा रोड, इंदिरा कॉलानो मार्ग, बारावरदा नदी समेत कई नालों में पानी वेग से बहा।
धरियावद
क्षेत्र में रविवार सुबह से जारी गर्मी एवं उमस के बीच दोपहर को मौसम में बदलाव देखने को मिला। आधे घंटे तक तेज बरसात हुई। सीतामाता वन्य जीव क्षेत्र में झमाझम बरसात के चलते देर शाम को करमोही नदी में पानी की भारी आवक हुई। वहीं जाखम बांध पर लगातार चादर चलने का सिलसिला जारी रहा। रविवार दोपहर बांध पर ६० सेमी की चादर चली।
बारिश में गरीब का आशियाना ढहा
दलोट
क्षेत्र में रविवार को बारिश हुई। इससे कस्बे के कालापानी रोड पर सांसरी मोहल्ले में स्थित भूलीबाई कुमावत के कच्चे मकान की दीवार गिर गई है। मकान काफी पुराना था। दीवार गिरने के साथ ही मकान क्षतिग्रस्त हो चुका है। जो गिरने की कगार पर है। मकान मे रहने वाली भूलीबाई कुमावत की आर्थिक स्थिति भी काफी कमजोर है। जिसके कारण मकान का पुन: निर्माण नहीं करवा सकती है। प्रधानमंत्री आवास मे भी नाम दे रखा है। लेकिन अभी तक इनका नाम नहीं आया। भूलीबाई ने बताया कि उसके एकलौते पुत्र जितेंद्र के जन्म के कुछ दिनों बाद ही उसके पति जीवनलाल कुमावत की मृत्यु हो गई थी। जिसके बाद से ही उसने अपने पुत्र को मजदूरी कर पाला। वर्तमान में मां एव पुत्र जितेंद्र मजदूरी कर जीवन यापन कर रहे है। इनके पास कोई ठोस आजीविका का साधन नहीं है।