पांच घंटे देरी से पहुंची ट्रेन तो बिफरे यात्री

किया हंगामा
चित्तौडग़ढ़. इन दिनों रेलवे द्वारा विद्युतीकरण और ट्रेक दोहरीकरण का कार्य चल रहा है जिसके चलते कई ट्रेनों का संचालन निरस्त कर रखा तथा कई गाडिय़ों को शॉर्ट ट्रर्मिनेट कर किया गया है। जो गाडिय़ां चल रही वो प्रतिदिन विलंब से आ रही है। इससे यात्रियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। चित्तोड़-नीमच तक रेलवे लाइन दोहरीकरण कार्य के चलते सोमवार को उदयपुर-बांद्रा ट्रेन नीमच-चित्तौडग़ढ़ के मध्य करीब पांच घंटे रूकती-रूकती पहुंची तो खफा यात्रियों ने हंगाम कर दिया। ट्रेन में सवार यात्रियों ने स्टेशन मास्टर को घेर कर विरोध जताया। इस ट्रेन के चित्तौड़ आगमन का समय सुबह ६ बजे का है जो करीब ४ घंटे ४० मिनट विलंब से १०.४० बजे चित्तौडग़ढ़ पहुंची। ट्रेन में इतने विलंब से सर्वाधिक परेशान वो यात्री हुए जिन्हें चित्तौडग़ढ़ उतरकर अन्यत्र स्थानों पर जाना था।यात्रियों ने आरोप लगाया कि विलंब के बावजूद पहले यात्री गाड़ी को नहीं निकाल कर सीआरएस की गाड़ी को निकाला गया। अधिकारियों की समझाईश के बाद ही यात्री शांत हुए। इससे पूर्व सुबह इंटरसिटी सहित कुछ अन्य ट्रेनों के भी विलंब से चलने पर यात्रियों ने रोष जताया।