परिवहन दस्ते को देखकर चालक एेसे भागा कि टे्रलर टकरा गया

भीलवाड़ा. चित्तौडग़ढ़ राजमार्ग पर हजारी खेड़ा के निकट आग चल रहे ट्रक में टे्रलर घुस गया। इससे ट्रेलर का चालक गम्भीर रूप से घायल हो गया। हादसे के बाद करीब पौन घंटे राजमार्ग बाधित रहा। पुर थाना पुलिस ने क्षतिग्रस्त दोनों वाहनों को सड़क किनार कर आवागमन सुचारू करवाया। घायल चालक को महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

पुलिस के अनुसार मण्डपिया की ओर से टे्रलर आ रहा था। हजारी खेड़ा के निकट आगे चल रहे ट्रक में टे्रलर घुस गया। दुर्घटना के बाद मौके पर अफरा-तफरी मच गई। वहीं हाइवे पर जाम लग गया। सूचना पर पुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और केबिन में फंसे चालक अजमेर जिले के शिवराज गुर्जर को बाहर निकाल कर अस्पताल पहुंचाया। क्षतिग्रस्त वाहनो को सड़क किनारे कर यातायात सुचारू करवाया गया। उधर, लोगों का कहना है कि इस रूट पर परिवहन विभाग का दस्ता वाहनों की जांच कर रहा था। इसके चलते डर के कारण चालक ने टे्रलर भगाया और अनियंत्रित होकर आगे चल रहे ट्रक में घुस गया। चालक की हालत गम्भीर होने से बयान नहीं दे पाया। इससे हादसे का कारण पता नहीं लग पाया। वहीं जिला परिवहन अधिकारी वीरेन्द्रसिंह राठौड़ का कहना था कि उस रूट पर परिवहन दस्ता था ही नहीं। फिर भी मानवता के नाते परिवहन टीम वहां पहुंची और घायल को अस्पताल पहुंचा कर उसका इलाज करवाया।

परिवहन दस्ते को देखकर चालक एेसे भागा कि टे्रलर टकरा गया

भीलवाड़ा. चित्तौडग़ढ़ राजमार्ग पर हजारी खेड़ा के निकट आग चल रहे ट्रक में टे्रलर घुस गया। इससे ट्रेलर का चालक गम्भीर रूप से घायल हो गया। हादसे के बाद करीब पौन घंटे राजमार्ग बाधित रहा। पुर थाना पुलिस ने क्षतिग्रस्त दोनों वाहनों को सड़क किनार कर आवागमन सुचारू करवाया। घायल चालक को महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

पुलिस के अनुसार मण्डपिया की ओर से टे्रलर आ रहा था। हजारी खेड़ा के निकट आगे चल रहे ट्रक में टे्रलर घुस गया। दुर्घटना के बाद मौके पर अफरा-तफरी मच गई। वहीं हाइवे पर जाम लग गया। सूचना पर पुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और केबिन में फंसे चालक अजमेर जिले के शिवराज गुर्जर को बाहर निकाल कर अस्पताल पहुंचाया। क्षतिग्रस्त वाहनो को सड़क किनारे कर यातायात सुचारू करवाया गया। उधर, लोगों का कहना है कि इस रूट पर परिवहन विभाग का दस्ता वाहनों की जांच कर रहा था। इसके चलते डर के कारण चालक ने टे्रलर भगाया और अनियंत्रित होकर आगे चल रहे ट्रक में घुस गया। चालक की हालत गम्भीर होने से बयान नहीं दे पाया। इससे हादसे का कारण पता नहीं लग पाया। वहीं जिला परिवहन अधिकारी वीरेन्द्रसिंह राठौड़ का कहना था कि उस रूट पर परिवहन दस्ता था ही नहीं। फिर भी मानवता के नाते परिवहन टीम वहां पहुंची और घायल को अस्पताल पहुंचा कर उसका इलाज करवाया।