दुर्ग पर आने वाले पर्यटकों की नजर में क्यों हो रहे बदनाम


चित्तौड़ग़ढ़. यूनेस्को की विश्व धरोहर में शामिल चित्तौड़ दुर्ग पर अनाधिकृत गाइड, उत्पातियों व लपको के कारण पर्यटकों के मानस में यहां की छवि धूमिल हो रही है। ऐसे में इनकी धरपकड़ के लिए अब अभियान चलाया जाएगा। ये फैसला जिला कलक्टर शिवांगी स्वर्णकार की अध्यक्षता में हुई पर्यटन विकास समिति की बैठक में किया गया। बैठक में तय किया गया किजिले के समग्र और व्यापक पर्यटन विकास के लिए सभी संबंधित विभाग्र संस्थाएं और एजेंसियां मिलकर प्रभावी प्रयास करेंगे। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि बाहर से आने वाले पर्यटकों का अधिक से अधिक समय तक ठहराव व भ्रमण चित्तौडग़ढ़ जिले में बना रहे। बैठक में सभी सदस्यों ने ये मत व्यक्त किया कि लपको के कारण चित्तौैड़ दुर्ग का पर्यटन बदनाम हो रहा एवं आपराधिक गतिविधियां बढ़ रही है। दुर्ग पर लपको व हैण्डीक्रॉफ्ट का व्यवसाय करने वालों की मिलीभगत से पर्यटकों के शोषण व अवैध गतिविधियों के संचालन की समस्या सामने आने पर जिला कलक्टर ने अधिकृत गाईड्स की सेवाएं लेने तथा अनधिकृत रूप से गाईड्स का काम करने वाले लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। बैठक में कालिका माता मन्दिर के आसपास अवैध शराब की बिक्री व प्रसाद की दुकानों पर शराब बेचे जाने के मामले में भी कार्रवाई के निर्देश दिए गए। अनधिकृत गाइड द्वारा एतहासिक गाथाओं को मनमाने ढंग से विकृत कर पेश करने की शिकायतों पर जिला कलक्टर ने अधिकृत गाइड्स की सेवाएं लेने व नए गाइड्स का रजिस्ट्रेशन कराने की कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने क्षेत्र में सीसीटीवी कैमरे लगाने, पुलिस की गश्त बढ़ाने तथा शनिवार व रविवार को अतिरिक्त पुलिस जाप्ता लगाने, प्रवेश बिन्दुओं पर विशेष चौकसी बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि दुर्ग पर अवांछित गतिविधियां रोकने के लिए पुलिसए एएसआई प्रतिनिधि एवं पर्यटन से संबंधित अधिकारी मिलकर कार्रवाइ करें। उन्होंने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक निर्देश दिए कि दुर्ग के रामपोल दरवाजे पर अतिरिक्त पुलिस जाप्ता मय ब्रीथ एनेलाईजर तैनात करें। शराब की अवैध ब्रिकी करने वालों को भी चिह्नित कर पुलिस को सूचित करने के निर्देश दिए गए। दुर्ग से अतिक्रमण हटाने के लिए भी कार्रवाई के निर्देश दिए गए।
गलत शपथपत्र देने वालों पर हो एफआईआर
बैठक में किले में आवासीय एवं वाणिज्यिक प्रयोजन के मद्देनजऱ अतिक्रमण कर दुकानें स्थापित करने तथा इन दुकानों को बिजली-पानी के कनेक्शन जारी हो जाने की बात सामने आने पर जिला कलक्टर ने सम्बन्धित विभागों से जवाब-तलब किया। विभागों के अधिकारियों ने बताया कि सभी को 500 रुपए के शपथ पत्र पेश किए जाने के बाद ही कनेक्शन दिए गए हैं। इस पर जिला कलक्टर ने निर्देश दिए कि गलत दिए गए शपथ पत्रों की जांच कर संबंधितों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएं।
प्रस्ताव दुबारा भिजवाने के निर्देश
शहर की गंभीरी नदी को साबरमती की तर्र्ज पर रिवरफ्रन्ट व्यू निर्माण पर भी चर्चा हुई। परिषद आयुक्त ने बताया कि पुलिया से संगम महादेव मन्दिर तथा नई पुलिया तक नदी के दोनों तरफ पाथ वे के निर्माण, बैंच लगाने, लैंप पोस्ट लगाने तथा नदी के सौन्दर्यकरण सम्बन्धी कार्य के लिए लिए राज्य सरकार को 13 करोड़ की लागत का प्रस्ताव भिजवाया जा चुका है। जिला कलक्टर ने प्रस्ताव की लागत में प्राथमिकता वाले कामों को शामिल कर नवीन प्रस्ताव बनाकर दुबारा भिजवाने के निर्देश दिए।
चित्तौडग़ढ़ में होगा बर्ड फेस्टिवल
चित्तौडगढ़ जिले के विभिन्न तलाबों में प्रवासी देशी.विदेशी पक्षियों के आवागमन व विहार को देखते हुए बर्ड फेस्टिवल आयोजित करने का फैसला हुआ। फेस्टिवल का देशी-विदेशी पर्यटकों एवं पक्षी प्रेमियों में व्यापक प्रचार.प्रसार करने के लिए जिला कलक्टर ने उप वन संरक्षक ;वन्य जीवद्ध को निर्देश दिए और उन्हें नोडल अधिकारी बनाया। बैठक में चित्तौडग़ढ़ दुर्ग की तलहटी तथा नगर में स्थित प्राचीन बावडिय़ों के संरक्षण पर चर्चा के दौरान जिला कलक्टर ने परिषद आयुक्त को जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत बावडिय़ों को चिह्नित कर साफ.सफाई एवं उन्हें उपयोगी बनाकर संरक्षित करने के निर्देश दिए। रखरखाव के लिए भामाशाह के रूप में औद्योगिक घरानों को गोद दिये जाने के निर्देश दिए।
होटल एसोसिएशन का गठन हो
जिला कलक्टर ने बैठक में मौजूद विभिन्न होटलों के प्रतिनिधियों से कहा कि चित्तौडग़ढ़ के पर्यटन विकास को दृष्टिगत रखते हुए होटल एसोसिएशन का गठन किया जाना चाहिए। जिला कलक्टर ने चित्तौडग़ढ शहर व जिले के प्रमुख पर्यटक स्थलों के समीप तथा राजमार्गो पर होटल, रेस्टोरेंट की स्थापना के लिए भूमि का निर्धारण कर लैण्ड बैंक बनाने के लिए नगर विकास न्यास के सचिव एवं नगर परिषद आयुक्त और जिले के सभी उपखण्ड अधिकारियों को निर्देेश प्रदान किए। आरंभ में पर्यटन विभाग के सहायक निदेशक शरद व्यास ने बैठक का एजेण्डा प्रस्तुत किया। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन मुकेश कुमार कलाल, उप वन संरक्षक सविता दहिया, यूआईटी सचिव सीडी चारण, उपखण्ड अधिकारी विनोद कुमार, नगर परिषद आयुक्त नारायणलाल मीणा सहित विभिन्न विभागों से जुड़े अधिकारी मौजूद थे।