तंग गलियों में कॉम्पलेक्स, सड़कों पर वाहन

चित्तौडग़ढ़. चित्तौडग़ढ़ शहर में सुनियोजित विकास के दावों की धज्जियां उड़ रही है। मुश्किल से १०-१५ फीट की चौड़ाई वाले वाले रोड पर भी नए कॉम्पलेक्स बन रहे है। कॉम्पलेक्स तो खड़े हो रहे है लेकिन उनमें खुलने वाली दुकानों के संचालकों, कर्मचारियों व आने वाले ग्राहकों के वाहन उस संकड़ी सड़क पर है जहां पहले ही चलना कठिन हो रहा है। पार्किंग के अभाव में ऐसी सड़कों पर दोनों तरफ दुपहिया वाहन खड़े होना वहां से गुजरने की राह दुश्वार कर रहा है। जिन मॉर्गो पर चौपहिया वाहन भी नहीं चल सकते वहां कॉम्पलेक्स निर्माण से यातायात जाम अब आम है, लोग परेशान है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
पुराना शहर क्षेत्र में गोलप्याऊ के आसपास के क्षेत्र में ऐसे छोटे-छोटे बाजार व्यापारियों के लिए भले कमाई का माध्यम हो लेकिन यहां यातायात व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो गई है। यहां आने-जाने वाले ग्राहकों को जाम की परेशानी से गुजरना पड़ता है। इन बाजारों में चार पहिया वाहन तो दूर गलती से कोई भी हाथ थेला भी आ जाए तो यहां जाम लग जाता है। लोगों को आगे बढऩे के लिए कई बार तो घंटों तक इंतजार करना पड़ता है। दो बाइक आमने-सामने आ जाती है तो भी निकलना मुश्किल होता है। बाजार में दूर-दूराज गांव से आने वाले लोगों को पार्किंक के अभाव में अपना वाहन दुकान के बाहर ही खड़ा करना पड़ता है। जिससे सड़क पर दोनों तरफ वाहन खड़ा हो जाने से इन गलियों में चलने के लिए भी जगह नहीं बचती है।हैरान करने वाली बात तो यह है कि इतनी सकरी गलियां होने के बाद भी बड़े-बड़े कॉम्पलेक्स कैसे बन गए है। ये गलियां पहले से सकरी है और इन गलियों में आवारा मवेशियों के और घूमने से आमजन की परेशानी और बढ़ जाती है।

ऑटोरिक्शा भी आ जाए तो लग जाता जाम
गोल प्याऊ के नजदीक कर्ई कॉम्पलेक्स वाली बलाइयों की कुंई वाली गली अधिक सकरी होने से सबसे ज्यादा परेशानी भी होती है। नए कॉम्पलेक्स तो बन गए लेकिन वाहन पािर्कंग का कोई इंतजाम नहीं है। एक ऑटोरिक्शा या हाथ ठेला भी दिन में इस रोड पर आ जाए तो यातायात जाम के हालात बन
जाते है।
इसके पास ही प्रजापत गली में अधिकतर श्रृंगार सामग्री व कपड़े की दुकानें लगी हुई है। इस गली में दोनों तरफ बड़ी संख्या में वाहन खड़े रहने से आमने सामने एक बाइक भी निकलने की जगह नहीं रहती है। ऐसे में यहां से गुजरने वाले लोग परेशान रहते है।

गोल प्याऊ चौराहा पर बाइक खड़ी कर जाते लोग
बाजार में सकरी गलियों के चलते कईबार तो यह हालात बन जाते है कि लोगों को वाहन खड़ा करने के लिए जगह ही नहीं मिलती है। लोगों को वाहन खड़ा करने के लिए दूसरे वाहन मालिक के वाहन हटाने तक उसका इंतजार करना पड़ता है। जो ग्राहक इस समस्या से परिचित है वो तो कईबार वाहन गोलप्याऊ चौराहा पर खड़ा ऐसे बाजारों में जाते है।

सर्वे कराकर करेंगे कार्रवाई
हमने अभी ऐसे संकड़े बाजारों में किसी कॉम्पलेक्स निर्माण की कोई स्वीकृत नहीं दी है। ये पहले के बिना स्वीकृति के बने है। सर्वे कराकर जो भी नियम विरुद्ध बने हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।हाल में एक-दो जनों को नोटिस भी जारी किए है।
नारायण लाल मीणा, आयुक्त नगर परिषद चित्तौडग़ढ़

मुख्य बाजार की गलिया अधिक संकरी होने से यहां बाइक लेकर जाने में परेशानी होती है। पार्किंग की व्यवस्था नहीं होने से लोग दुकानें के बाहर ही अपना वाहन खड़ा कर देते है। जिससे अन्य लोगों को परेशानी होती है।
दुर्गाशंकर, महाराज की नेतावल
गलियों के संकरी होने से त्यौहारी व शादियों के सीजन में अधिक भीड़ रहती है। इससे पैदल चलने वाले लोग भी आसानी से नहीं चल पाते है।
लक्ष्मण कुमावत, ओछडी़