ढोल- नगाड़े की गूंज के साथ निकला ताजियों का जुलूस, युवाओं ने दिखाए हैरतअंगेज करतब

मेवाड़ किरण @ नीमच -

अपना जावद @ नोशाद अली
हजरत इमाम हसन हुसैन के सच्चाई के प्रति बलिदान की याद में मनाया जाने वाला पर्व मोहर्रम शांतिपूर्ण से मनाया गया। मोहर्रम माह की दसवी तारीख पर मंगलवार को नगर में ताजियों का जुलुस निकाला गया। दोपहर नमाज पश्चात खेरातियो का ताजिया जामा मस्जिद एवं मोमिमों का ताजिया मोमिन मोहल्ले से प्रारम्भ हुआ जो खुर्रा चौक पहुचकर खेरातियो का ताजिया के पीछे मोमिनो का ताजिया अखाड़ो के साथ बोहरा गली, आडा गेला, पुराना स्टेट बैंक चौराहा, धानमण्डी, होकर लक्ष्मीनाथ चौक पहुचा जहा पर मेवाफरोशो का ताजिया अपने मुकाम से उठकर प्रारम्भ होकर मेवाफरोशो, खेरातियो एवं मोमिनो का ताजिया एक के बाद एक माणक चौक, कंठाल चौराहा, कसेरा बाजार, खुर्रा चौक पर अंतिम मुकाम लगा जहा से देर रात्री को अठाना दरवाजा होते हुए नाहरसिंह माता रोड स्थित कर्बला में परंपरा अनुसार ठंडे ( विसर्जन ) किये गये है। नगर में ताजिया निकलने के दौरान मुस्लिम समुदाय के नगर सहित आसपास से आये सेकड़ो अकीदतमंद शामिल हुए। जुलुस में शामिल होने के लिए दूर दराज से बड़ी संख्याओ में अकीदतमंदों का आना जाना लगा रहा। अकीदतमंदों ने ताजियों की जियारत कर अमन चेन के लिए फुल पेश किए, पूरा नगर या हुसैन के नारों से गूंज उठा। ताजियों के जुलुस में नौजवान जोश में या हुसैन के नारे बुलंद करते हुए ताजियों को कंधो पर उठाकर चल रहे थे युवाओ ने ढोल- ताशो, लेझ्म पर धुनें बिखेरी। नगर के पारंपारिक मार्गों से गुजरे जुलूस के बीच युवाओं के हैरतअंगेज कारनामे देखकर हर कोई दंग रह गया। इस दौरान अखाड़ा प्रदर्शन भी हुआ। जुलूस में युवाओं का जोश देखते ही बनता था वहीं मुस्लिम समुदाय के सभी वर्ग के लोग इसमें शामिल हुए। ताजियों के गुजरने के दौरान कई धर्मों के लोग इसके नीचे से गुजरे और खुशहाली की कामना की। जुलुस में मोला अली अखाड़ा, छिपन अखाड़ा सहित अन्य के पहलवानों ने जगह जगह अखाड़ा खेल कर हैरतअंगेज करतब दिखाए जिसे देख लोग अचंभित हो गये। जुलुस मार्गो पर विभिन्न समाजजनो ने चाय, पानी, बिस्कुट वितरण की गई एवं सभी अखाड़ो के उस्ताद खलीफा का सम्मान किया गया। दो छोटे मोहर्रम भी बच्चो द्वारा अपने कंधो पर उठाकर बड़े मोहर्रम के साथ चल रहे थे। प्रशासन के माकूल व्यवस्थाओ के रहने से शांतिपूर्वक पर्व सम्पन्न हुआ।

Source : Apna Neemuch