टिवटर से हुई दोस्ती, फिर हुआ प्यार, श्रीलंका से आई दुल्हन, किसान के बेटे से हुई शादी

मंदसौर.
रविवार को बसंत पंचमी के अवसर पर यूं तो देशभर मे सैकडों-हजारों युवक-युवतियां शादी के पवित्र बंधन में बंधे। लेकिन शहर के एक निजी रिसोर्ट में हुए विवाह समारोह में मंदसौर जिले के ग्राम कुचडोद गांव का रहने वालाकिसान पुत्र श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट वकील कि बेटी के साथ परिणय सूत्र में बंधा। करीब तीन साल के प्यार के बाद ये रिश्ता शादी तक पहुंचा।
गोविंद प्रकाश पिता रामानुज दुरग(माहेश्वरी) और श्रीलंका की रहने वाली हंसनी ईरानमली इधीरीसिंगे की हिंदू रीति-रिवाज के साथ हुई। गोविंद और हंसनी की मित्रता वर्ष 2015 में ट्वीटर के जरीए हुई थी। मित्रता आगे बड़ी और द ोनों में धीरे-धीरे प्यार हो गया। इसी प्यार में दोनों ने साथ जीने मरने की कसमें खा ली। वर्ष २०१७ जुलाई में हंसनी गोविंद से मिलने जब भारती पहुंची तो गोविंद भी उसे रिसीव करने के लिए राजधानी दिल्ली एयरपोर्ट पहुंच गया। यहां से वो हंसनी को लेकर अपने गांव कुचडोद पहुंचा। गोङ्क्षवद ने अपने पूरे परिवारों वालों से हंसनी की मुलाकात करवाई। जब परिवार वालों को भी हंसनी पंसद आई तो दोनों की शादी की बात आगे बढ़ी।
सात समंदर पार आकर ब्याही बेटी
कहते है कि जोडिय़ा ऊपर से ही बनकर आती है। यहां तो वो केवल सात फेरों के बंधन में बंधकर दोनों एक-दूसरे के होते है। ऐसा ही गोविंद और हंसनी के साथ हुआ। गोविंद ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर ली है। हंसनी चड़ीगढ़ में डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी कर ली है। गोविंद के मुताबिक उनके पिता रामानुज दुरग अपने गांव कुचडौद में एक सा जनरल स्टोर चलाते है। और मुख्य रूप से खेती ही उनका आजिविका का साधन है। हंसनी के पिता इरानमली इरीधीसिंगे श्रीलंका में सुप्रीम कोर्ट वकील है। मां व्याख्ता है।
15 सदस्यीय परिवार श्रीलंका से पहुंचा मंदसौर
गोविंद ओर हंसनी कि इस अवसर पर जहां मंदसौर में दूल्हे गोविंंद के सैकड़ों रिश्तेदारों ने शिरकत की तो वही दुल्हन हंसनी के परिवार के 15 सदस्य श्रीलंका से मंदसोर में पहुंचे । जिनमे हंसनी के माता,पिता भाई, बहन और अन्य सगे सदस्य शामिल है।