झूलते तारों के मकडज़ाल में उलझ रहा शहर

प्रतापगढ़. शहर में बिजली के ढीले तारों का मकडज़ाल बढ़ता जा रहा है। शहर के भीतरी हिस्से में यह समस्या ज्यादा है। अंदर बड़े पैमाने पर जर्जर तार सडक़ों व गली मोहल्लों में लटक रहे हैं। कई जगह पर बिजली के खंभे भी झुके हुए हैं। साथ ही खुले में रखे ट्रांसफार्मर रखे हैं। दुकानों से सटे बिजली के खंभे खुले आम मौत को दावत दे रहे है।
शहर में कई कॉलोनियां ऐसी भी है, जहां बिजली के तार घरों को छूते हुए निकल रहे हैं। इन तारों से अब तक कई हादसे हो चुके हैं। फिर भी विभाग की ओर से लापरवाही बरती जा रही है। शहर के मंदसौर रोड स्थित हनुमान नगर सहित कई कॉलोनियां ऐसी हैं, जहां दुकानों व व मकानों से सटकर बिजली के खंभे लगे हुए हैं।

खुले रखे ट्रांसफार्मर के इर्द गिर्द हो रहा व्यापार
शहर में ऐसी कई जगह है, जहां खुले रखे ट्र्रांसफार्मर से सटी दुकानें लगी है। ऐसे में कभी भी फाल्ट कोने व करंट फैलने से बड़ा हादसा हो सकता है। शहर के व्यस्ततम गांधी चौराहे पर नगरपरिषद गेट के मुख्य द्वार पर ही ट्रांसफार्मर सटी दुकानें लगी हुई है। विभाग की लापरवाही लोगों की जान पर बन सकती है।

बिजली बंद रहेगी
चूपना. डिस्कॉम के जीएसएस पर रख रखाव के कारण सुबह 10 बजे से 2 बजे तक चूपना, नागदी और अरनोद क्षेत्र में बिजली आपूर्ति बाधित रहेगी। यह जानकारी डिस्कॉम की ओर से दी गई।


.महिलाओं को समझाया- माहवारी में कैसे रखें सफाई का ध्यान
- केन्द्रीय स्वच्छता मंत्रालय की कार्यशाला

पीपलखूंट. पंचायत समिति पीपलखूंट के सभागार में शुक्रवार को स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत माहवारी स्वच्छाता प्रबंधन की कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें उपखण्ड अधिकारी विरमाराम ने बताया कि केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा ‘माहवारी स्वच्छता प्रबंधन’ का आयोजन किया जा रहा है।
विकास अधिकारी पी एल मीणा ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अभियान में मानव जीवन में स्वच्छता को जीवन का मूल आधार माना गया है। जीवन में स्वच्छता होना अति आवश्यक है। स्वच्छता अपने खाने-पीने, रहने की शुद्धता से सम्बंधित है। महिलाओं को माहवारी के दौरान होने वाली समस्याओं से ‘चुप्पी तोड़ो सच्चाई से नाता जोड़ो’ नारा देते हुए कहा कि अधिकांश महिलाएं समस्याओं को विस्तृत रूप देने में संकोच करती है। इससे परिवार के अन्य लोग उनकी समस्या समझ नहीं पाते। महिलाशक्ति को अपनी समस्याओं की चुप्पी तोडऩी होगी।
स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शौचालय का उपयोग स्वच्छता पर आधारित ‘टॉयलेट- एक प्रेम कथा’ और माहवारी की समस्या पर बनी फिल्म ‘पैडमैन’ के कथानक के माध्यम से सफाई और माहवारी की समस्याओं का जिक्र कर समाधान का सुझाव कार्यशाला में दिया गया।
स्वच्छ भारत मिशन के प्रभारी अधिकारी श्याम लाल खन्ना ने बताया कार्यशाला में समस्त ग्राम पंचायतों से एएनएम, आंगनवाडी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी राजीविका की महिलाएं आदि माहवारी स्वच्छाता प्रबंधन की कार्यशाला में उपस्थित रहे। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के ब्लॉक समन्वयक कुलदीप जोशी ने स्वच्छता पर आधारित पीपीटी प्रदर्शित की गई।
विकास अधिकारी पी एल मीणा ने बताया कि 28 फरवरी को प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण योजना अंतर्गत महावारी स्वच्छता प्रबंधन के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण होगा। इसमें समस्त गांव की महिलाएं और किशोरी बालिकाओं को जानकारी दी जाएगी।