झीलें भरने के बाद झीलों की नगरी में अब ये नया फैसला, पत्रिका ने उठाया मुद्दा तो लिया फैसला

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. झीलों की नगरी में रहने वाले बाशिंदों के लिए खुशखबरी है। नई व्यवस्था के तहत शहर को 48 घंटे के अंतराल में पीने का पानी मिलेगा। जलदाय विभाग की ओर से 72 घंटों में की जा रही जलापूर्ति व्यवस्था में प्रशासनिक दखल के बाद ये बदलाव किया गया है। इससे पहले राजस्थान पत्रिका ने शहरवासियों की इस परेशानी को खबरों के माध्यम से उठाया था। ८ सितंबर के अंक में ‘जलाशय भर गए फिर फिर भी शहर प्यासा’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर बताया था कि शहर में जलापूर्ति के प्रमुख स्रोतोंं में पानी कम होने पर ७२ घंटे में आपूर्ति शुरू की गई, लेकिन जलाशयों में भरपूर पानी के बावजूद बड़े क्षेत्र में ७२ घंटे में जलापूर्ति की जा रही है। समाचार के बाद जिला प्रशासन एवं जलदाय विभाग ने मंथन किया। जलदाय विभाग के एसई ने प्रशासनिक अधिकारियों के हवाले से आदेश जारी कर उपखंड पंचम व सप्तम में पूर्व के समान ४८ घंटों में जलापूर्ति सुनिश्चित करने के आदेश दिए। कलक्टर आनंदी ने बताया कि यह व्यवस्था बुधवार से लागू की गई।
शहर में मानसीवाकल जल योजना से शुरू होने वाले नगर उपखंड पंचम और सप्तम के अधीन क्षेत्रों में जल वितरण 48 घंटे के अंतराल में होगा। नगर उपखंड सप्तम के अधीन क्षेत्र न्यू आरटीओ क्षेत्र, आयड़ खटीकवाड़ा क्षेत्र, संत टेरेसा रोड, गांधीनगर, आदर्श नगर, ई-ब्लॉक, माण्डल तलाई, न्यू भूपालपुरा, केशवनगर, कालका-माता एवं प्रतापनगर से होने वाली जलापूर्ति एकांतर दिवस पर होगी। 12 सितंबर को खेमपुरा, भोपा मगरी, डोरे नगर, आदर्श नगर, यूनिवर्सिटी रोड क्षेत्र, धूलकोट क्षेत्र, आनंदनगर, आयड़ से होने वाली सप्लाई एकांतर दिवस पर की जाएगी। नगर उपखण्ड पंचम के अधीन क्षेत्रों में भी बुधवार से सभी सप्लाई एकांतर दिवस पर
की जाएगी।