चल समारोह में अचानक मचा हड़कंप, सैकड़ों पहुंचे अस्पताल

नीमच. जिले के कुकड़ेश्वर में सहस्रमुखेश्वर की पारंपरिक शाही सवारी श्रावण के अंतिम सोमवार को निकाली जा रही थी। पूरा अंचल भोले की भक्ति में रमा था। दूरदराज से श्रद्धालुओं की भीड़ यहां जुटी थी, इसी दौरान एक घटना ऐसी हुई कि पूरे जिले में सनसनी फैल गई। जिसे जहां जगह दिखी वहां लेट गया। कोई भाग रहा था तो कोई वाहन में बैठकर जाने की जुगत में था। ३०० लोग हादसे की जद में थे, प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य अमले को मुस्तैद होना पड़ा।
कुकड़ेश्वर में सोमवार को भगवान सहस्रमुखेश्वर की शाही सवारी के दौरान फलाहारी खिचड़ी खाने से करीब ३०० लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गए। पहले कुकड़ेश्वर में उल्टी और मितली के मरीज बडी तादाद में पहुंचे लेकिन वहां व्यवस्था न होने के कारण ज्यादातर मरीजों को मनासा के शासकीय चिकितसालय ले जाया गया। सूचना पर मनासा से स्वास्थ्य विभाग की टीम कुकड़ेश्वर पहुंची और रोगियों का उपचार किया। सभी की हालत खतरे से बाहर बताई गई है।
सोमवार को प्रात: से ही कुकड़ेश्वर में भगवान सहस्रमुखेश्वर की शाही सवारी निकाली जा रही थी। सवारी में शामिल भक्तों के स्वल्पाहार के लिए भक्तों ने विभिन्न स्थानों पर खिचड़ी सहित अन्य खाद्य सामग्री के स्टॉल लगाए थे। दोपहर में शाही सवारी नगर भ्रमण कर रही थी। इस दौरान कई लोगों ने वहां बांटी जा रही साबूदाने और मूंगफली दाने की खिचड़ी का सेवन किया। दोपहर में कुछ बच्चों को जी घबराने और उल्टी की शिकायत हुई। इस पर तीन चार बच्चों को कुकड़ेश्वर के शासकीय चिकित्सालय में लाया गया। लेकिन कुछ ही देर बाद मरीजों की संख्या बढऩे लगी। ज्यादातर बच्चे अस्पताल पहुंच रहे थे। कुछ ही देर में कुकड़ेश्वर का स्वास्थ्य केंद्र मरीजों से भर गया। ऐसे में कई लोगों ने अपने बीमार परिजनों को वाहनों में बैठाकर सीधे सामुदायिक चिकित्सालय मनासा पहुंचाया। मनासा में जब इस घटना की सूचना मिली तो सीएमएचओ पंकज शर्मा के निर्देश पर मनासा से बीएमओ सहित अन्य चिकित्सकों की टीम कुकड़ेश्वर रवाना हुई। शाम तक मरीजों की संख्या करीब ३०० हो गई थी। मनासा और कुकड़ेश्वर के अस्पतालों में फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुए लोगों का तुरंत उपचार किया गया। अधिकांश लोगों को इंजेक्शन और दवाई गोली से राहत मिल गई जबकि १२० से अधिक मरीजों को ड्रिप चढ़ाना पड़ी। इस हादसे से कुकड़ेश्वर में हाहाकार मच गया।
इधर मनासा से एसडीएम पीएल देवड़ा सहित पुलिस और प्रशासन के अधिकारी कुकड़ेश्वर पहुंचे और मरीजों के लिए उपचार की व्यवस्था करवाई। शाम तक स्थिति सामान्य हो गई थी। सभी मरीजों को खतरे से बाहर बताया गया है।
-
अधिकांश लोगों को किसी खाद्य पदार्थ के सेवन के कारण संभवत: फूड प्वाइजनिंग हुई है। कुछ मरीजों को ड्रिप लगानी पड़ी। सभी सामान्य है, अधिकांश को छुट्टी दे दी है। इनमें शामिल ७-८ बुजुर्ग हृदय रोग पीडि़तों को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय रैफर किया गया है। - डा.आरके जोशी, वरिष्ठ चिकित्सक शासकीय चिकित्सालय मनासा ब्लाक
-

शाही सवारी के दौरान फूड प्वाइजनिंग की शिकायत मिली थी। मनासा से प्रशासन के अधिकारियों के साथ एसडीओपी, संबंधित टीआई और पुलिस अमला मौके पर पहुंच गए। स्थिति नियंत्रित है। किसी को खतरा नहीं है। किन कारणों से यह हादसा हुआ जांच का विषय है। - तुषारकांत विद्यार्थी, एसपी नीमच