घर का मुखिया बीमार, परिवार का गुजर-बसर करना हुआ मुश्किल

योगेश श्रीमाली @ कुंवारिया. लापस्या ग्राम पंचायत क्षेत्र के दौलतपुरा गांव के एक परिवार का बीमारी के चलते गुजर- बसर करना मुश्किल हो रहा है। लेकिन, ढेरों सरकारी योजनाओं के बावजूद इस परिवार को कहीं से सहायता नहीं मिल पाई है।
दौलतपुरा निवासी बंशीलाल (3५) पुत्र भज्जा कुमावत करीब पन्द्रह साल पहले भीलवाड़ा के आरोली में स्थित खदान क्षेत्र में मजदूरी करता था। वहां काम के दौरान वह सिलिकासिस बीमारी की चपेट में आ गया।इस पर तभी से वह अंग्रेजी व देशी दोनों तरीकों से उपचार करवाया पर उसे फायदा नहीं मिल पाया। बताया कि उपचार के बाद भी सुधार नहीं होने से वह काफी कमजोर हो गया है, जिससे उसमें काम करने की शक्ति भी नहीं बची है। उसकी जमा पूंजी भी उपचार कराने में खर्च हो गई है और अब वह कोई काम भी नहीं कर रहा है। ऐसे में उसकी पत्नी भी चेस्टपेन की बीमारी से ग्रसित रहने लगी है। उसके दो पुत्र हैं, जो अभी छोटे हैं। इनमें से एक कक्षा आठ व दूसरा दसवीं में अध्ययनरत है। इसके चलते अब उनका गुजारा चलाना भी मुश्किल हो गया है। गांव के ग्रामीणों ने भी बताया कि बंशीलाल व उसकी पत्नी की बीमारी के उपचार में वे सारा पैसा खर्च कर चुके हैं, जिससे घर खर्च चलाना मुश्किल हो गया है। लेकिन, इसके बाद भी उन्हें सरकार के स्तर से कोई सहायता नहीं मिल पाई है। यहीं नहीं किसी सरकारी योजना का फायदा भी नहीं मिल रहा है। ऐसे में अब उन्हें प्रशासन व सरकार से सहायता के साथ ही भामाशाहों से मदद की दरकार है।


योजना के फार्म भरवाए पर चयन बाकी है
सिलिकोसिस बीमारी से पीडि़ीत बंशीलाल को राजकीय सहायता दिलाने के लिए खाद्य सुरक्षा योजना, बीपीएल परिवार में शामिल कराने, प्रधानमंत्री आवास योजना में भवन निर्माण सहित अन्य सहायता के लिए पत्रावलियां तैयार कराई, परन्तु स्वीकृति व चयनित होने पर ही इस परिवार को सहायता मिल मिल पाएगी।
सपना देवी शर्मा, सरपंच, ग्राम पंचायत लापस्या
ले सकता है निशुल्क उपचार
सिलिकासिस बीमारी की जिला चिकित्सालय में निशुल्क उपचार की सुविधा है। पीडि़त यहां आकर उपचार करवा सकता है।
डॉ. राजकुमार खोलिया, डिप्टी सीएमएचओ, राजसमंद