कौनसी डेयरी ने बढ़ाई औसत दूध एवं फैट खरीद दर


चित्तौडग़ढ़. कुछ सालों पहले तक दुग्ध उत्पादन में पिछड़ा माना जाने वाला मेवाड़ क्षेत्र अब श्वेत क्रंति दुग्ध उत्पादन में तेजी से कदम बढ़ा रहा है। चित्तौडग़ढ़-प्रतापगढ़ दुग्ध उत्पादक संघ ने इस बार किसानों को उनके दूध के अधिकतम क्रय मूल्य देकर लाभान्वित किया। इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री दुग्ध उत्पादक संबल योजना के तहत दुग्ध उत्पादकों को 2 रुपए प्रति लीटर अधिक मूल्य दिया जा रहा है।कुछ ही माह पहले प्रबंध निदेशक पद पर आए सोहन बरडवा के अनुसार गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष किसानों को दूध की खरीद के काफी अधिक मूल्य दिए गए हैं। गत वर्ष माह मई में औसत खरीद मूल्य 31.01 था जो इस वर्ष बढ़कर 31.79 रहा। गत वर्ष जून में खरीद मूल्य 30.80 था जो इस वर्ष बढ़कर 33.13 हो गया। इसी प्रकार जुलाई व अगस्त माह के भावों में भी तुलनात्मक वृद्धि हुई। बरडवा ने बताया कि गत वर्ष जून में जो भाव 570 रुपए प्रति किलो फैट थे। जिनको हर माह घटाकर 21 अगस्त 2018 में रुपए 530 कर दिया गया था। अर्थात पिछले वर्ष जून से लगाकर सितंबर तक रुपए 40 प्रति किलो की दर से कमी की गई। जबकि इस वर्ष मई में रुपए 550 प्रति किलो के जो क्रय मूल्य दिए जा रहे थे वह सितंबर 2019 में रुपए 620 प्रति किलो चल रहे हैं। अर्थात 70 प्रति किलो फैट वृद्धि इस वर्ष की गई है।
.........................
समीपवर्ती जिला दुग्ध संघ जैसे कि उदयपुर,पाली तथा भीलवाड़ा से हमारी दूध खरीद दर अधिक ही हैं। केवल भीलवाड़ा की दूध खरीद दर इस कारण अधिक प्रतीत होती है कि वहां पर गाय का दूध अधिक मात्रा में लिया जाता है लेकिन भैंस के दूध की दरें भीलवाड़ा की भी हमारी दरों से अधिक नहीं है।
.सोहन बरडवा, प्रबंध निदेशक, चित्तौडग़ढ़ डेयरी