कोरोना रिपोर्ट आने के एक घंटे पहले कर दिया महिला का ऑपरेशन

भीलवाड़ा। महात्मा गांधी चिकित्सालय में मंगलवार को डॉक्टरों ने कोरोना संक्रमित महिला का ऑपरेशन कर दिया। स्तन में गांठ के ऑपरेशन के लिए भर्ती हुई महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट आने से करीब एक घंटे पहले ही ऑपरेशन कर दिया।

बाद में महिला के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आने पर अस्पताल के सर्जिकल विभाग समेत अस्पताल प्रशासन व कार्मिकों में हड़बड़ी मच गई। इधर, अस्पताल प्रशासन ने तत्काल ऑपरेशन थियेटर को सील कर दिया। इसके साथ ही जिस वार्ड में महिला को रखा गया था, वहां भर्ती मरीजों को कोरोना संदिग्ध वार्ड में शिफ्ट किया गया। ऑपरेशन करने वाले तीन चिकित्सकों समेत 28 नर्सिंगकर्मियों व नर्सिंग छात्राओं को होम क्वारंटीन कर दिया। अब 8 जून को इनके सैम्पल लिए जाएंगे।

आरआरटी प्रभारी व डिप्टी सीएमएचओ डॉ. घनश्याम चावला ने बताया कि मंगलवार सुबह पहली रिपोर्ट में दो कोरोना संक्रमित रोगी सामने आए। इसमें महिला बीलिया कलां निवासी है। वह गत दिनों अपने सुसराल गंगरार से पीहर आई थी। यहां डिलेवरी के बाद स्तन में गांठ होने पर उसे सोमवार को अस्पताल में भर्ती किया गया था। ऑपरेशन से पहले उसका का सैम्पल जांच के लिए भीलवाड़ा मेडिकल कॉलेज भिजवाया गया था। उसकी रिपोर्ट मंगलवार को आनी थी, लेकिन डॉ. रीटा वर्मा, डॉ. आनन्द अग्रवाल, उनके सहयोगी डॉ. विशाल शर्मा व डॉ. वीरेन्द्र शर्मा सहित तीन अन्य स्टाफ ने ऑपरेशन कर महिला को अस्थाई सर्जिकल वार्ड (बर्नं वार्ड) में भेज दिया। इसी वार्ड में अन्य मरीज भी भर्ती थे।

महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर अस्पताल अधीक्षक डॉ. अरुण गौड़ की अध्यक्षता में बैठक कर ऑपरेशन थियेटर को सील करवा दिया गया। साथ ही बर्न वार्ड में भर्ती आठ मरीजों को संदिग्ध रोगी मानते हुए कोरोना संदिग्ध वार्ड में शिफ्ट किया गया।

महिला के सवा माह का बच्चा
सर्जिकल यूनिट हैड डॉ. रीटा वर्मा का कहना है कि महिला के 9 अप्रेल को डिलीवरी हुई थी। स्तन में गांठ होने तथा दर्द अधिक होने पर डॉ. आनन्द ने ऑपरेशन कर किया। ऑपरेशन में महिला के करीब एक लीटर पस निकाला। संभवतया शरीर काफी कमजोर होने से कोरोना की चपेट में आ गई।

पहले लापरवाही, अब लेंगे 34 सैम्पल
वर्तमान में कोरोना का खतरा बरकार है। इसके बाद भी बिना रिपोर्ट आए ऑपरेशन करना बड़ी लापरवाही है। ऑपरेशन थियेटर में डॉक्टर समेत छह जने थे। वार्ड में 22 जनों का स्टाफ है। इसके अलावा महिला के परिवार के छह सदस्य भी सम्पर्क में आए। एेसे में कुल 34 जनों के सैम्पल लिए जाएंगे।

चार सदस्यों की कमेटी करेगी जांच
अस्पताल अधीक्षक डॉ. गौड़ ने बताया कि महिला के ऑपरेशन में कहां लापरवाही रही। इसकी जांच के लिए डॉ. पवन बंसल के नेतृत्व में चार सदस्यों की कमेटी गठित की गई है। कमेटी को दो दिन में जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। गौड़ ने भी बताया कि महिला की निजी सोनोग्राफी सेन्टर पर करवाई गई सोनोग्राफी की भी जांच करने को कहा गया है। डॉ. चावला ने निजी चिकित्सक को भी सैम्पल जांच व होम क्वारंटीन में रहने के निर्देश दिए है। उधर, डॉ. आनन्द अग्रवाल से कई बार मोबाइल से सम्पर्क करने का प्रयास किया, लेकिन फोन नोट रीचेबल आ रहा था।

रिपोर्ट आने से पहले ऑरेशन करना गलत
महिला का ऑपरेशन सुबह साढ़े नौ बजे शुरू किया था, जबकि उसकी रिपोर्ट सवा दस बजे आ गई थी। जांच रिपोर्ट आने से पहले ही ऑपरेशन करना गलत है। ऑपरेशन थियेटर को सील कर दिया गया है। उसमें दवा का छिड़काव किया जाएगा। वार्ड में भर्ती आठ रोगियों को दूसरे वार्ड में भेजा गया है। चिकित्सा टीम को फिलहाल होम क्वारंटीन कर दिया गया है। इनके सैम्पल लिए जाएंगे।
डॉ.अरुण गौड़, अधीक्षक, महात्मा गांधी अस्पताल, भीलवाड़ा