कोरोना के बीच विद्यार्थियों को गुजरना होगा दोहरी परीक्षाओं से, शुरू होने वाली हैं बोर्ड परीक्षाएं

उदयपुर. कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच इसी माह व आगामी माह से शुरू होने वाली परीक्षाओं ने चिंताएं बढ़ा दी हैं। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की छठीं, सातवीं की परीक्षाएं 15 अप्रेल से शुरू होने जा रही हैं। वहीं, मई माह में 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं शुरू होंगी। उदयपुर में पहले ही कई स्कूलों में विद्यार्थी पॉजिटिव मिल चुके है, जिससे विद्यार्थियों से लेकर अभिभावकों की चिंता बढ़ी हुई है। इधर, सीबीएसई के विद्यार्थी भी मई में शुरू होने वाली परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग कर रहे थे, इस पर बोर्ड ने तय समय पर ही परीक्षाएं कराने की बात कह दी है।

9वीं से 11वीं की हो रहीं परीक्षाएं
इधर, बोर्ड भी परीक्षा आयोजन को लेकर चिंता में है। इस बार भी 10वीं 12वीं की परीक्षाएं आयोजित करवाना बोर्ड के लिए आसान नहीं होगा। ऐसे समय में परीक्षा आयोजन को लेकर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और शिक्षा विभाग अभी से रणनीति बनाने में लग गए हैं। वहीं, शिक्षा मंत्री भी परीक्षाओं को लेकर अधिकारियों की बैठक ले चुके हैं। हालांकि इसमें कोई बड़ा निर्णय नहीं हुआ है। उदयपुर में अब छठींं से सातवीं की परीक्षाएं 15 अप्रेल से शुरू होनी हैं। इसे लेकर तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। वहीं, 9वीं से 11वीं की परीक्षाएं 6 अप्रेल से शुरू हो गई हैं और 22 अप्रेल तक चलेंगी। इस पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि प्रोटोकॉल के तहत ही परीक्षाएं कराई जा रही हैं। वहीं, 8वीं बोर्ड की परीक्षा 6 मई से शुरू होनी है। इन परीक्षाओं का समय दोपहर 2 बजे से 4.40 बजे तक दिया गया था। ऐसे में दोपहर के समय को लेकर पहले ही आपत्ति हो चुकी है और अब इसका समय बदल कर सुबह की पारी का कर दिया गया है।


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से जुड़ी परीक्षाएं -

कक्षा 6 एवं 7 की परीक्षा - 15-22 अप्रेल तक विद्यालय स्तर पर
कक्षा 9 व 11 की परीक्षा - 6-22 अप्रेल तक

8वीं बोर्ड परीक्षा - 6 मई से 27 मई तक
10वीं बोर्ड परीक्षा- 6 मई से 27 मई तक

12वीं की परीक्षाएं - 7 मई से 29 मई तक
10वीं व्यावसायिक और प्रवेशिका परीक्षाए - 6 मई से 27 मई तक

सीबीएसई परीक्षाएं
10 वीं व 12वीं बोर्ड - 4 मई से 11 जून तक

इनका कहना है

पिछले साल कोविड-19 के जिस प्रोटोकॉल की पालना करते हुए परीक्षाएं कराई गई थीं, उसी प्रोटोकॉल की पालना अब भी की जा रही है। विद्यार्थियों की थर्मल स्क्रीनिंग से लेकर कक्षाओं को सेनिटाइज करना, मास्क की अनिवार्यता, स्कूल में सेनिटाइजर्स आदि की व्यवस्था की जा चुकी है। कई परीक्षाएं भी हो रही हैं। वहीं, 8वीं बोर्ड की परीक्षा का समय भी सुबह की पारी में कर दिया गया है। ऐसे में अब विद्यार्थियों को परेशानी नहीं आएगी।

धर्मेंद कुमार जोशी, संयुक्त निदेशक, स्कूल शिक्षा

वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए विभाग को आठवीं तक के बालकों को प्रोन्नत करने का निर्णय ले लेना चाहिए। शेष बोर्ड कक्षाओं के अलावा परीक्षा का निर्णय वहां की कोरोना की स्थिति को देखते हुए लेना चाहिए।
शेर सिंह चौहान, प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष, राजस्थान शिक्षक एवं पंचायती राज कर्मचारी संघ