कोठारी बांध बनेगा प्रदेश का मॉडल बांध

बीगोद।
प्रदेश भर के बांधो के जीर्णोद्धार के लिए भीलवाड़ा जिले के कोठारी बांध को मॉडल के रूप में चुना गया है। राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना के तहत कोठारी बांध का जीर्णोद्धार कार्य शुरू हो गया है और अगले एक साल बाद कोठारी बांध नए स्वरूप में दिखने लगेगा। कोठारी बांध की तर्ज पर ही प्रदेश भर के बांधो की कायापलट की जाएगी। कोठारी बांध पर तेरह करोड़ रूपये खर्च कर सम्पूर्ण बांध, नहरों का जीर्णोद्धार किया जाएगा।


वर्ष 1984 में कोठारी नदी पर नन्दराय के पास कोठारी बांध का निर्माण किया गया था। मेजा बांध के ओवर फ्लो होने के बाद पानी कोठारी बांध में आता था। कुछ वर्षों से मेजा बांध ओवर फ्लो नही हो पाया है। भीलवाड़ा शहर व आस-पास के गांवो से बरसात का पानी बांध में जमा होता है। बरसात के पानी से कोठारी बांध प्रतिवर्ष लबालब होने के करीब पहुंच ही जाता है। दो वर्ष पूर्व बांध पर ढाई इंच तक चादर चली थी। बांध पर चादर 18 फिट पानी आने के बाद चलती है।
कोठारी बांध से फसलों की सिंचाई के लिए नहरे निकली गई है जो करीब चार एकड़ में फसलों की सिंचाई की जाती है।
बांध का पानी पेयजल के रूप में काम मे नही लिया जाता है। बांध की सुरक्षा दीवारें भी करीब पांच किलोमीटर की बनी हुई है।
बांध पर मार्च 2020 में जीर्णोद्धार कार्य पूरा हो जाएगा।

अब मॉडल बांध के रूप में यह होगा
राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना (आर डब्ल्यू एस एल आई पी) के तहत कोठारी बांध पर 13 करोड़ का जीर्णोद्धार होगा जिसमें सुरक्षा दीवारों, नहरों, रपट की मरम्मत की जाएगी। बांध के नीचे कॉजवे व पुलिया बनाई जा रही है जिससे पानी आने पर आवागमन प्रभावित नही होगा।


बांध परिसर में करीब 15 बीघा का बगीचा बनाया जाएगा। बांध पर सौन्दरकर्ण भी किया जाएगा। नहरों पर दस घाट बनाए जाएंगे जिससे किसानों को लाभ मिलेगा। पानी की बढ़ती कमी को देखते हुए टेल तक के किसान को पानी पहुंचाने के लिए 10 प्रतिशत एरिया को ड्रिप व स्प्रिंकलर में बदला जाएगा जिससे पानी की कमी को पूरी किया जा सके।

इनका कहना है
कोठारी बांध का 13 करोड़ से जीर्णोद्धार किया जा रहा है जो प्रदेश का मॉडल बांध बनेगा। इसी बांध की तरह अन्य बांधो का भी जीर्णोद्धार किया जाएगा। किसानों व ग्रामीणों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए बांध पर आधुनिक सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएगी।
जमील अख्तर, सहायक अभियंता, जल संसाधन विभाग, कोटड़ी