केन्द्र सरकार श्रमिकों के विरोध में कर रही काम

भीलवाड़ा।
Anti labor policies राजस्थान निर्माण मजदूर यूनियन (सीटू) के प्रदेश अध्यक्ष भगवान सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार की ओर से चलाई जा रही श्रम विरोध नीतियों के कारण सभी श्रम कानूनों को बदला जा रहा है। सिंह शनिवार को हरिशेवा धर्मशाला में जिला बिल्डिंग वक्र्स यूनियन के जिला स्तरीय सम्मेलन में बोल रहे थे।

https://www.patrika.com/sagar-news/atak-ki-hadtal-3948793/

Anti labor policies उन्होंने कहा कि पूंजीपतियों को पिछले दरवाजे से सहयोग किया जा रहा है। लेबर कोड के नाम पर कुठाराघात हो रहा है। भवन निर्माण में लगे सभी श्रमिकों का शोषण किया जा रहा है। राज्य सरकार भी भाजपा के पदचिह्नों पर चल रही है। उन्होंने श्रम विरोधी नीतियों के विरोध में एकजुट होने का आह्वान किया। सीटू के महामंत्री ओमप्रकाश देवानी रिपोर्ट रखी जिसे श्रमिकों ने ध्वनिमत से पारित किया। सम्मेलन को इंटक के दीपक व्यास, जमनालाल एवं लोह धातु उत्पादक यूनियन महामंत्री कन्हैयालाल बुलावत, राजस्थान निर्माण मजदूर यूनियन महामंत्री हरेन्द्र सिंह व सचिव विजयसिंह ने भी सम्बोधित किया।

प्रदर्शन ३० को
सम्मेलन में ३० अगस्त को प्रदेश स्तर पर कमठाणा श्रमिकों की समस्याओं पर जिला स्तर पर प्रदर्शन का निर्णय किया गया। प्रदेशव्यापी आंदोलन २५ सितम्बर को जयपुर में श्रम विभाग कार्यालय का घेराव किया जाएगा। सम्मेलन के बाद जिला कार्यकारिणी का चुनाव में रतनलाल नट को जिलाध्यक्ष चुना गया। महामंत्री ओमप्रकाश देवानी व अन्य पदों पर रामचन्द्र बुनकर, महेन्द्रसिंह गुर्जर, शिवराज बलाई, मंजू आचार्य, उर्मिला विश्नोई, जोहरा बेगम, मंजू विश्नोई, रिलेशकुमार खटीक, महावीर सिंह, शोभादेवी विश्नोई तथा चम्पादेवी शर्मा को चुना गया।