केदारनाथ रूसिया संकल्पित देहदानी बने

मेवाड़ किरण @ नीमच -

नीमच से दो हजार किलोमीटर दूरी पर स्थित आंध्रप्रदेश सीमा से सटे नक्सेलाइट ग्रसित बालाघाट जिले के बारहसिवनी नगर के 89 वर्षीय श्री केदारनाथ रूसिया सुपुत्र-स्व. श्री बैजनाथजी रूसिया, नीमच नगर की महर्षि दधीचि देह-अंग-नेत्रदान यज्ञ संस्थान के माध्यम से संकल्पित देहदानी दधीचि बन गये हैं। श्री रूसिया, सामाजिक पत्रिका गहोई वैश्य बन्धु में नीमच की देहदान संस्था अध्यक्ष डॉ. हरनारायण गुप्त के स्वयं द्वारा देहदान संकल्प लेने एवं प्रकाशित जागरूकता, लेख से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपने शरीर का मोह त्यागकर, परिजनों से स्वयं देहदान की इच्छा व्यक्त कर एवं सहमति प्राप्त कर डॉ. गुप्त से सम्पर्क किया। संकल्प पत्र एवं विस्तृत साहित्य का अध्ययन कर उन्होंने संकल्प पत्र भरकर डॉ. गुप्त को भेजा है जो उन्हें 1 अप्रैल को प्राप्त हुआ। इस बीच उन्होंने मेडिकल कॉलेज नागपुर के शरीर रचना विभाग के प्राध्यापक को अपने संकल्प का पंजीयन करवा लिया एवं उन्हें निर्देशित किया कि वह श्री रूसिया के परिजनों को उनके देहावसान उपरांत संदेश मिलने पर देहदान के लिये वाहन भेजकर देह मंगवा लें।
ज्ञातव्य हो कि संकल्पित देहदानी श्री केदारनाथ रूसिया, डॉ. हरनारायण गुप्त के गहोई वैश्य समाज के जाति भाई एवं उन्हीं के समान अखिल भारतीय गहोई वैश्य समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। उनके दो सुपुत्र वारासिवनी नगर में दवाई की दुकान संचालित कर रहे हैं। श्री रूसिया 89 वर्ष की आयु में पूर्ण स्वस्थ हैं, सामाजिक कार्यों एवं बैठकों में भाग लेते हैं एवं स्वयं के शारीरिक कार्य स्वयं करते हैं। प्रातःकालीन भ्रमण, व्यायाम, योग, प्राणायाम, नियमित रूप से करते हैं।
महर्षि दधीचि देह-अंग-नेत्रदान यज्ञ संस्थान उन्हें नीमच संस्था के माध्यम से संकल्प लेने हेतु धन्यवाद ज्ञापित करता है। अध्यक्ष डॉ. हरनारायण गुप्त एवं महामंत्री संदीप चौधरी एवं सदस्यगण उनकी दीर्घायू, उत्तम स्वास्थ्य की मंगल कामना करते हैं।

Source : Apna Neemuch