कृषि उपज मंडी में किसानों के साथ उपज के तोल में हो रहा है जोल

मेवाड़ किरण @ नीमच -

नीमच कृषि उपज मंडी में किसानों के साथ धोखाधड़ी होना एक आम बात हो चुकी हैं कभी किसानों की उपज को लाल गुलाब का शिकार होना पड़ता है तो कहीं हमारे द्वारा अवैध वसूली के मामले भी सामने आए हैं कल जब हमारी टीम कृषि उपज मंडी पहुंची तो चौंकाने वाला दृश्य सामने आया किसानों की उपज बिकने के बाद हमालो द्वारा तोल में हेराफेरी करना अब आम बात हो चुकी है कल ऐसे ही 2 मामले सामने आए एक मामले में मंडी प्रशासन में कार्रवाई करें तो दूसरे मामले में शिकायत का इंतजार करते रहे नीमच कृषि उपज मंडी में चप्पे चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगाए हुए हैं। ताकि मंडी में उपज लेकर आने वाले किसानों के साथ किसी प्रकार की धोखाबाजी नहीं हो। कुछ स्थानों पर तो चोरी और अवैध वसूली पर नियंत्रण के लिए कैमरे लगे होने के साथ ही स्पष्ट शब्दों में भी लिखा है। कि आप कैमरे की नजर में हैं। लेकिन कैमरों पर जिम्मेदारों की नजर नहीं है। बता दें की कृषि उपज मंडी में अवैध गतिविधियों पर नियंत्रण के लिए अकेले लहसुन मंडी में ही 23 कैमरें लगे हुए हैं। वहीं अनाज सहित अन्य मंडियों में करीब 30 सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। इस प्रकार मंडी के मुख्य द्वारों से लेकर मंडी के कौने कौने तक करीब 53 कैमरों द्वारा नजर रखी जा रही है, लेकिन आश्चर्य की बात है कि मंडी के अंदर ही विभिन्न प्रकार की अवैध गतिविधियां धड्ल्ले से चल रही है। ऐसे ही दो तीन मामले बुधवार को प्रकाश में आए हैं। जिसमें 5 किलो से लेकर एक क्विंटल तक की उपज हेराफेरी के मामले हैं।

Source : Apna Neemuch